Uncategorized

वो नर्म सी ( Wo Narm see)

हिन्द-युग्म ने अपना दूसरा संगीतबद्ध गीत भी ज़ारी कर दिया गया है। १९ नवम्बर २००७ को हिन्द-युग्म की उसी पुरानी टीम ने नया गीत श्रोताओं के हवाले कर दिया। पूरा विवरण यहाँ है।
कवि- सजीव सारथी
स्वर- सुबोध साठे
संगीत-ऋषि एस॰ बालाजी
अक्षर- वो नर्म सी…
स्रोत- हिन्द-युग्म
नीचे ले प्लेयर से सुनें और ज़रूर बतायें कि कैसा लगा?

(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)

Related posts

मैं ख्याल हूँ किसी और का, मुझे सोचता कोई और है……. "बेग़म" की महफ़िल में "सलीम" को तस्लीम

Sajeev

पतवार पहन जाना… ये आग का दरिया है….गीत संगीत के माध्यम से चेता रहे हैं विशाल और गुलज़ार.

Sajeev

सुनो कहानी: पंडित सुदर्शन की कालजयी रचना हार की जीत

Amit