Uncategorized

वो नर्म सी ( Wo Narm see)

हिन्द-युग्म ने अपना दूसरा संगीतबद्ध गीत भी ज़ारी कर दिया गया है। १९ नवम्बर २००७ को हिन्द-युग्म की उसी पुरानी टीम ने नया गीत श्रोताओं के हवाले कर दिया। पूरा विवरण यहाँ है।
कवि- सजीव सारथी
स्वर- सुबोध साठे
संगीत-ऋषि एस॰ बालाजी
अक्षर- वो नर्म सी…
स्रोत- हिन्द-युग्म
नीचे ले प्लेयर से सुनें और ज़रूर बतायें कि कैसा लगा?

(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)

Related posts

हिस्सा बनिए आवाज़ पर " लता संगीत पर्व " का और जीतिए इनाम

Amit

तुम ही मेरे मीत हो, तुम ही मेरी प्रीत हो – हेमंत कुमार और सुमन कल्याणपुर का बेहद रूमानी गीत

Amit

सुनो कहानी: प्रेमचंद की "वरदान"

Amit