Uncategorized

सुनो कहानी: सुधा अरोड़ा की अन्नपूर्णा मंडल की आखिरी चिट्ठी

सुधा अरोड़ा की कहानी अन्नपूर्णा मंडल की आखिरी चिट्ठी

‘सुनो कहानी’ इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ।
पिछले सप्ताह आपने कविता वर्मा की आवाज़ में कन्नड साहियत्यकार रामचन्द्र भावे की कहानी ‘वारिस‘ का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं सुधा अरोड़ा की कहानी “अन्नपूर्णा मंडल की आखिरी चिट्ठी“, जिसको स्वर दिया है प्रीति सागर ने। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। कहानी का कुल प्रसारण समय है: 14 मिनट 24 सेकंड।

इस कहानी का टेक्स्ट हिन्दीनेस्ट पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं हमसे संपर्क करें। अधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ देखें।


आत्माएं कभी नहीं मरतीं। इस विराट व्योम में, शून्य में, वे तैरती रहती हैं – परम शान्त होकर।
~ सुधा अरोड़ा


हर शनिवार को आवाज़ पर सुनिए एक नयी कहानी


कहीं मेरे पति घर में घुसते ही इन सब पर चप्पलों की चटाख-चटाख बौछार न कर दें या मेरी सास इन पर केतली का खौलता हुआ पानी न डाल दें।
(सुधा अरोड़ा की “अन्नपूर्णा मंडल की आखिरी चिट्ठी” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)

VBR MP3

#Eighty Sixth Story, annpoorna mandal ki akhiri chitthi: Sudha Arora/Hindi Audio Book/2010/30. Voice: Preeti Sagar

Related posts

छुपालो यूं दिल में प्यार मेरे कि जैसे मंदिर में लौ दिए की…हर सुर पवित्र हर शब्द पाक

Sajeev

मैं इस जमीं पे भटकता रहा हूँ सदियों तक…गुलजार

Amit

सडकें छोटी थीं, दिल बड़े थे, उस शहर के जहाँ इत्तेफ़ाकन मिले थे नितिन, उन्नी और कुहू

Amit