Uncategorized

गिनती की हैं इंडस्ट्री में महिला संगीतकार पर उनमें एक खास मुकाम रखती हैं उषा खन्ना

ओल्ड इस गोल्ड /रिवाइवल # १०

युं तो आज महिलायें हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहीं हैं, लेकिन जहाँ तक फ़िल्मों में संगीत देने या गीत लिखने का सवाल है, उसमें आज भी पुरुषों का ही बोलबाला है। लेकिन फ़िल्म संगीत के इतिहास में कम से कम दो ऐसी महिला संगीतकारा हुईं हैं जिन्होने फ़िल्म संगीत में बहुत बड़ा योगदान दिया है, फ़िल्मी गीतों के ख़ज़ाने को समृद्ध किया है। एक तो थीं सरस्वती देवी जिन्होने बौम्बे टाकीज़ की बहुत सारी फ़िल्मों में बहुत ही कामयाब संगीत दिया, और दूसरी हैं उषा खन्ना, जिन्होने ६०, ७० और ८० के दशकों में बहुत सारी फ़िल्मों में बहुत ही उम्दा संगीत दिया है। आम तौर पर हम इन दो महिला संगीतकारों के नाम जानते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि सरस्वती देवी से भी पहले जड्डन बाई (अभिनेत्री नरगिस की माँ) एक संगीतकारा रह चुकीं हैं, जिन्होने सन् १९३५ में ‘तलाश-ए-हक़’ नामक फ़िल्म में संगीत दिया था! बहरहाल, आज ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ में हम उषा खन्ना जी का स्वरबद्ध किया हुआ एक बेहद ख़ूबसूरत गीत आपको सुनवाने जा रहे हैं। अजी ख़ूबसूरत क्या, एक थिरकता मचलता नग़मा फ़िल्म ‘दिल देके देखो’ से। महीला संगीत निर्देशिकाओं में सब से ज़्यादा नाम कमाया उषा खन्ना ने। बतौर संगीतकार, अपनी पहली फ़िल्म में ही लोकप्रियता की शिखर पर पहुँच गईं थीं उषा खन्ना। एस. मुखर्जी ने उनकी संगीत के प्रति लगाव को देख कर अपनी फ़िल्म ‘दिल देके देखो’ के संगीत का उत्तरदायित्व उन्हे दे दिया, और इस तरह से पार्श्व गायिका उषा खन्ना बन गईं संगीत निर्देशिका उषा खन्ना। तो आइए उषा जी की उसी पहली पहली फ़िल्म का शीर्षक गीत सुनते हैं आज।

ओल्ड इस गोल्ड एक ऐसी शृंखला जिसने अंतरजाल पर ४०० शानदार एपिसोड पूरे कर एक नया रिकॉर्ड बनाया. हिंदी फिल्मों के ये सदाबहार ओल्ड गोल्ड नगमें जब भी रेडियो/ टेलीविज़न या फिर ओल्ड इस गोल्ड जैसे मंचों से आपके कानों तक पहुँचते हैं तो इनका जादू आपके दिलो जेहन पर चढ कर बोलने लगता है. आपका भी मन कर उठता है न कुछ गुनगुनाने को ?, कुछ लोग बाथरूम तक सीमित रह जाते हैं तो कुछ माईक उठा कर गाने की हिम्मत जुटा लेते हैं, गुजरे दिनों के उन महान फनकारों की कलात्मक ऊर्जा को स्वरांजली दे रहे हैं, आज के युग के कुछ अमेच्युर तो कुछ सधे हुए कलाकार. तो सुनिए आज का कवर संस्करण

गीत – दिल देके देखो…
कवर गायन – मुकेश वाला

ये कवर संस्करण आपको कैसा लगा ? अपनी राय टिप्पणियों के माध्यम से हम तक और इस युवा कलाकार तक अवश्य पहुंचाएं

मुकेश वाला
मैं एक बिसनस मैन हूँ और साथ में लिखने का शौक रखता हूँ. गुजरती भाषा में मेरी लिखी हुई दो पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं, कुछ कुछ गायिकी, धुन और की–बोर्ड बजा लेता हूँ, आशा रखता हूँ कि मेरी गायिकी आपको पसंद आएगी

विशेष सूचना -‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड के ४०० शानदार एपिसोड आप सब के सहयोग और निरंतर मिलती प्रेरणा से संभव हुए. इस लंबे सफर में कुछ साथी व्यस्तता के चलते कभी साथ नहीं चल पाए तो कुछ हमसे जुड़े बहुत आगे चलकर. इन दिनों हम इन्हीं बीते ४०० एपिसोडों के कुछ चर्चित अंश आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं इस रीवायिवल सीरीस में, ताकि आप सब जो किन्हीं कारणों वश इस आयोजन के कुछ अंश मिस कर गए वो इस मिनी केप्सूल में उनका आनंद उठा सकें. नयी कड़ियों के साथ हम जल्द ही वापस लौटेंगें

Related posts

तोते की कहानी- रबिन्द्र नाथ टैगोर

Amit

वो जिसने हिन्दी फ़िल्म संगीत की तस्वीर ही बदल दी…- ए आर रहमान.

Amit

तुम रूठी रहो मैं मनाता रहूँ…कि इस मीठी नोंक झोंक में भी मज़ा बहुत आता है

Sajeev