Uncategorized

ज़िंदा हो गया है (कहानी)

हमने पॉडकास्ट ब्लॉग ‘आवाज़’ की शुरूआत सूरज प्रकाश की कहानी ‘एक जीवन समांतर’ से की थी। आज कहानी सुनाने के क्रम में हम लाये हैं राजीव रंजन प्रसाद के स्वर में इन्हीं की कहानी ‘ज़िंदा हो गया है’। यह कहानी कहानी-कलश पर २६ सितम्बर २००७ को प्रकाशित है।

नीचे ले प्लेयर से सुनें और ज़रूर बतायें कि कैसा लगा?

(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)

VBR MP3
64Kbps MP3
Ogg Vorbis

Related posts

ओ बसन्ती पवन पागल न जा रे न जा रोको कोई…मगर रोक न पायी कोई सदा राज को जाने से

Sajeev

कहानी 'एक और मुखौटा' का पॉडकास्ट

Amit

मिलिए आवाज़ के नए वाहक जो लायेंगें फिर से आपके लिए रविवार सुबह की कॉफी में कुछ दुर्लभ गीत

Amit