Uncategorized

सुनो कहानी: चोरी का अर्थ – विष्णु प्रभाकर जी के जन्मदिवस पर विशेष

‘सुनो कहानी’ इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में इस्मत चुगताई की एक सुन्दर और मार्मिक कहानी दो हाथ का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज विष्णु प्रभाकर जी के जन्मदिवस पर इस विशेष प्रस्तुति में हम लेकर आये हैं विष्णु प्रभाकर की “चोरी का अर्थ”, जिसको स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।
कहानी का कुल प्रसारण समय 1 मिनट 18 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

“चोरी का अर्थ” का टेक्स्ट गद्य कोश पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं हमसे संपर्क करें। अधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ देखें।


मेरे जीने के लिए सौ की उमर छोटी है
~विष्णु प्रभाकर (१२ जून १९१२ – ११ अप्रैल २००९)


विष्णु प्रभाकर जी के जन्मदिवस पर विशेष


हर शनिवार को आवाज़ पर सुनिए एक नयी कहानी


उसने ढक्कन खोला, उसका हाथ जहाँ था, वही रूक गया।
(विष्णु प्रभाकर की “चोरी का अर्थ” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर ‘प्ले’ पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)

VBR MP3 Ogg Vorbis

#Seventy Eighth Story, Chori Ka Arth: Vishnu Prabhakar/Hindi Audio Book/2010/22. Voice: Anurag Sharma

Related posts

तू न बदली मैं न बदला, दिल्ली सारी देख बदल गयी….जी हाँ बदल रहा है "लव आजकल"

Sajeev

सरकती जाये है रुख से नक़ाब .. अमीर मीनाई की दिलफ़रेब सोच को आवाज़ से निखारा जगजीत सिंह ने

Amit

रविवार सुबह की कॉफी और रफ़ी साहब के अंतिम सफर की दास्ताँ….दिल का सूना साज़

Sajeev