Tag : swar goshthi

Dil se Singer

होली के रंग रंगा राग काफी

Sajeev
रेडियो प्लेबैक की पूरी टीम अपने पाठकों और श्रोताओं को संप्रेषित कर रही है होली की ढेर सारी मंगल कामनाएँ…रंगों भरे इस त्यौहार में आपके...
Dil se Singer

संगीतकार नौशाद के 94वें जन्मदिवस पर विशेष -2

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी-102 में आज  संगीतकार नौशाद के 94वें जन्मदिवस पर विशेष -2    खमाज, केदार, सोहनी, वृन्दावनी सारंग और भैरवी में पगे नौशाद के गीत   क्षिति,...
Dil se Singer

संगीतकार नौशाद के 94वें जन्मदिवस पर एक विशेष श्रृंखला

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी-101 में आज  फिल्म संगीत के गुलदस्ते को रागों की खुशबू दी अप्रतिम साधक नौशाद अली ने   ‘स्वरगोष्ठी’ का यह 101वाँ अंक है और इस...
Dil se Singer

‘स्वरगोष्ठी’ में ठुमरी : ‘का करूँ सजनी आए न बालम…’

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी-९९ में आज फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी – १० विरहिणी नायिका की व्यथा : ‘का करूँ सजनी आए न बालम…’ ‘स्वरगोष्ठी’ के...
Dil se Singer

स्वरगोष्ठी में आज : ठुमरी- ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे…’

कृष्णमोहन
‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की पहली वर्षगाँठ पर सभी पाठकों-श्रोताओं का हार्दिक अभिनन्दन    स्वरगोष्ठी-९८  में आज  फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी –९  श्रृंगार...
Dil se Singer

फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी–८

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – ९७ में आज मान-मनुहार की ठुमरी : ‘जा मैं तोसे नाहीं बोलूँ…’ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर इन दिनों हम कुछ ऐसी पारम्परिक ठुमरियों...
Dil se Singer

नवोदित संगीत प्रतिभाओ के ताज़गी भरे स्वर

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – विशेष अंक में आज  उत्तर प्रदेश की बाल, किशोर और युवा संगीत प्रतिभाएँ- देवांशु, पूजा, अपूर्वा और भैरवी ‘उत्तर प्रदेश के सुरीले स्वर’ ...
Dil se Singer

फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी – ६

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – ९५ में आज श्रृंगार रस से अभिसिंचित ठुमरी- ‘बाजूबन्द खुल खुल जाय…’ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी लघु श्रृंखला ‘फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक...
Dil se Singer

फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी – ५

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – ९४ में आज ‘कौन गली गयो श्याम…’ : श्रृंगार और भक्ति का अनूठा समागम ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी लघु श्रृंखला ‘फिल्मों के आँगन में...
Dil se Singer

फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी – ३

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – ९२ में आज  मन्ना डे ने गाया उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ का दादरा ‘बनाओ बतियाँ चलो काहे को झूठी…’  ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी लघु श्रृंखला...