Tag : sujoy chatterjee

एक गीत सौ अफ़साने

तू मुस्कुरा जहां भी है तू मुस्कुरा

Sajeev Sarathie
वर्ष 2008 की चर्चित फ़िल्म ’युवराज’ का गीत “तू मुस्कुरा जहाँ भी है तू मुस्कुरा”। अलका यागनिक और जावेद अली की आवाज़ें, गुलज़ार के बोल,...
Dil se Singer

“ये कहाँ आ गए हम यूंही साथ-साथ चलते….”

cgswar
आलेख : सुजॉय चटर्जी स्वर :  सुशील पी   प्रस्तुति : संज्ञा टण्डन नमस्कार दोस्तों, ’एक गीत सौ अफ़साने’ की एक और कड़ी के साथ...
एक गीत सौ अफ़साने

Mere to Giridhar Gopal | Ek Geet Sau Afsane

Sajeev Sarathie
“मेरे तो गिरिधर गोपाल, दूसरो ना कोय…” – आज फ़िल्म ’मीरा’ के भजन के बहाने जानिए इस फ़िल्म और फ़िल्म के गीतों के निर्माण से...
एक गीत सौ अफ़साने

आप जैसा कोई ।। Ek Geet Sau Afsane

Sajeev Sarathie
एक ऐसा डिस्को गीत जिसने 80 के दशक में पूरे भारत को दीवाना बना दिया था, कमसिन गायिका नाज़िया हसन ने दिल तो जीता ही...
एक गीत सौ अफ़साने

“ससुराल गेंदा फूल…””फ़िल्म ’Delhi-6′ के लिए छत्तीसगढ़ी लोक गीत को ही क्यों चुना गया?

cgswar
 एक गीत सौ अफ़साने की दसवीं कड़ी॥  आलेख _ सुजॉय चटर्जी स्वर – अनुज श्रीवास्तव  प्रस्तुति – संज्ञा टण्डन साप्ताहिक स्तंभ ‘एक गीत सौ अफ़साने’...
Dil se Singer

चित्रकथा – 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग – 2)

PLAYBACK
अंक – 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग – 2) “मैं नागन तू सपेरा…”  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का...
Dil se Singer

चित्रकथा – 70: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग – 1)

PLAYBACK
अंक – 70 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग – 1) “मन डोले मेरा तन डोले…”  ’रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी...
Dil se Singer

चित्रकथा – 69: स्वर्गीय बालकवि बैरागी की फ़िल्मी रचनाओं में ग्राम्य संस्कृति की सुगंध

PLAYBACK
अंक – 69 स्वर्गीय बालकवि बैरागी की फ़िल्मी रचनाओं में ग्राम्य संस्कृति की सुगंध “बन्नी तेरी बिन्दिया की ले लूँ रे बल‍इयाँ…”  बालकवि बैरागी (10...
Dil se Singer

चित्रकथा – 68: इस दशक के नवोदित नायक (भाग – 10)

PLAYBACK
अंक – 68 इस दशक के नवोदित नायक (भाग – 10) “नहीं समझे हैं वो हमें, तो क्या जाता है…”  हर रोज़ देश के कोने...
Dil se Singer

चित्रकथा – 67: हिन्दी फ़िल्मी गीतों में रबीन्द्र संगीत की छाया

PLAYBACK
अंक – 67 हिन्दी फ़िल्मी गीतों में रबीन्द्र संगीत की छाया “कोई जैसे मेरे दिल का दर खटकाए…”  जहाँ एक तरफ़ फ़िल्म-संगीत का अपना अलग...