Tag : Sangeet Sameeksha

Dil se Singer

औरंगजेब – सपनों के लिए चुकाई अपनों की कीमत

Amit
प्लेबैक वाणी – 46 – संगीत समीक्षा – औरंगजेब इश्क्जादे फिल्म से अपने करियर की शुरुआत करने वाले अर्जुन कपूर की दूसरी बहुप्रतीक्षित फिल्म औरंगजेब...
Dil se Singer

सिनेमा के शानदार 100 बरस को अमित, स्वानंद और अमिताभ का संगीतमय सलाम

Sajeev
प्लेबैक वाणी -44 – संगीत समीक्षा – बॉम्बे टा’कीस सिनेमा के १०० साल पूरे हुए, सभी सिने प्रेमियों के लिए ये हर्ष का समय है....
Dil se Singer

क्या प्यार की मदहोशियाँ और सुरीली सरगोशियाँ लौटेगीं ‘आशिकी’ के नए दौर में

Sajeev
प्लेबैक वाणी -43 – संगीत समीक्षा – आशिकी 2 महेश भट्ट और गुलशन कुमार ने मिलकर जब आशिकी की संकल्पना की थी नब्बे के दशक...
Dil se Singer

एक डायन जो डराती नहीं, सुरीली तान छेड़ माहौल खुशगवार बनाती है!

Sajeev
प्लेबैक वाणी -42 – संगीत समीक्षा – एक थी डायन इस साल की शुरुआत विशाल और गुलज़ार की टीम रचित मटरू की बिजिली का मंडोला से हुई...
Dil se Singer

सुनने वालों को ‘हूकां’ मार पुकारता है ‘नौटकी साला’ का संगीत

Amit
प्लेबैक वाणी -41 – संगीत समीक्षा – नौटंकी साला सीमित संसाधनों का इस्तेमाल कर कम बजट की फिल्मों का चलन इन दिनों बॉलीवुड में जोरों...
Dil se Singer

संगीत की सुरीली बयार – अमन की आशा

Amit
प्लेबैक वाणी -40 – संगीत समीक्षा – अमन की आशा दोस्तों, आज हम चर्चा करेंगें एक और एल्बम की, ‘अमन की आशा’ के पहले भाग को श्रोताओं...
Dil se Singer

युवाओं को एक नए भारत की सृष्टि के लिए आन्दोलित करता एक संगीतमय प्रयास

Amit
प्लेबैक वाणी -38 – संगीत समीक्षा – बीट ऑफ इंडियन यूथ संगीत केवल मनोरंजन की वस्तु नहीं है। इसका मूल उद्देश्य इंसान के मनोभावों को...
Dil se Singer

‘रंगरेज’ की कूची में अपेक्षित रंगों का अभाव मगर सुर सटीक

Amit
प्लेबैक वाणी -37 – संगीत समीक्षा – रंगरेज निर्माता वाशु भगनानी अपने बेटे जैकी को फिल्म जगत में स्थापित करने में कोई कसर छोडना नहीं...
Dil se Singer

बंद कमरे की राजनीति में संगीत का तडका

Amit
प्लेबैक वाणी -36 – संगीत समीक्षा – साहेब बीबी और गैंगस्टर रिटर्न्स तिग्मांशु धुलिया की सफल साहेब बीवी और गैंगस्टर में शयनकक्ष के भीतर का जिस्मानी खेल...
Dil se Singer

दोस्ती के तागों में पिरोये नाज़ुक से ज़ज्बात -“काई पो छे”

Amit
प्लेबैक वाणी -35 – संगीत समीक्षा – काई पो छे रूठे ख्वाबों को मना लेंगें, कटी पतंगों को थामेगें, सुलझा लेंगें उलझे रिश्तों का मांजा…...