Tag : Reetesh Khare

काव्य तरंग

नहीं रुकते थे जो आंसू ।। गज़ल

Sajeev Sarathie
Happy Sunday…लिजिए रविवार सुबह की कॉफी के साथ सुनिए, Reetessh Khare की ये गज़ल उन्ही के स्वर में… GaanaPodcast, #amazonmusic #jiosaavnpodcasts #googlepodcasts #itunespodcast और #applepodcast...
बोलती कहानियाँ

द = देह, दरद, और दिल (बोलती कहानियाँ सीज़न 1) पॉडकास्ट # 24

Smart Indian
रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ ‘बोलती कहानियाँ‘ के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के...
Uncategorized

महफ़िल ए कहकशां -23, “सातों बार बोले बंसी” जैसे नगीनों से सजी है आज की “गुलज़ार-आशा-पंचम”-मयी महफ़िल

Pooja Anil
महफ़िल ए कहकशाँ 23 पंचम, आशा ताई और गुलज़ार  दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम...
Uncategorized

महफ़िल ए कहकशां -22, अपने पडो़सी दिल से भीनी-भीनी भोर की माँग कर बैठे गोटेदार गुलज़ार साहब, आशा जी एवं राग तोड़ी वाले पंचम दा

Pooja Anil
महफ़िल ए कहकशाँ 22 पंचम, आशा ताई और गुलज़ार  दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम...
Uncategorized

मल्लिका ए तरन्नुम नूरजहाँ से आज की महफ़िल में सुनेंगे आदमी की पहचान कैसे हो

Pooja Anil
महफ़िल ए कहकशाँ 21 नूरजहाँ  दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए...
Uncategorized

लगता नहीं है जी मेरा उजड़े दयार में.. मादर-ए-वतन से दूर होने के ज़फ़र के दर्द को हबीब की आवाज़ ने कुछ यूँ उभारा

Pooja Anil
महफ़िल ए कहकशाँ 20 बहादुर शाह ज़फ़र  दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं,...
Uncategorized

चाहा था एक शख़्स को… कहकशाँ-ए-तलबगार में आशा की गुहार

Pooja Anil
महफ़िल ए कहकशाँ 19 आशा भोंसले और खय्याम  दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर...
Uncategorized

परीशाँ हो के मेरी ख़ाक आख़िर दिल न बन जाए.. पेश-ए-नज़र है अल्लामा इक़बाल का दर्द मेहदी हसन की जुबानी

Pooja Anil
महफ़िल ए कहकशाँ 18 दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां”...
Uncategorized

महफ़िल ए कहकशां – 17, मेरा दिल तड़पे दिलदार बिना.. राहत साहब की दर्दीली आवाज़ में इस ग़मनशीं नज़्म का असर हज़ार गुणा हो जाता है

Pooja Anil
महफ़िल ए कहकशाँ 17  राहत फ़तेह अली खान दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर...
Uncategorized

मोहब्बत की कहानी आँसूओं में पल रही है.. सज्जाद अली ने शहद-घुली आवाज़ में थोड़ा-सा दर्द भी घोल दिया है

Pooja Anil
महफ़िल ए कहकशाँ 16 सज्जाद अली  दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल...