Tag : raja mehandi ali khan

Dil se Singer

राग पीलू : SWARGOSHTHI – 274 : RAG PILU

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 274 में आज मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन – 7 : मदन मोहन और लता का सुरीला संगम ‘मैंने रंग ली आज...
Dil se Singer

राग दरबारी कान्हड़ा : SWARGOSHTHI – 270 : RAG DARABARI KANHDA

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 270 में आज मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन – 3 : रफी और मदन की खूबसूरत ग़ज़ल ‘मैं निगाहें तेरे चेहरे से...
Dil se Singer

राग नन्द : SWARGOSHTHI – 259 : RAG NAND

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 259 में आज दोनों मध्यम स्वर वाले राग – 7 : राग नन्द कुमार गन्धर्व और मदन मोहन का राग नन्द ‘रेडियो प्लेबैक...
Dil se Singer

“झुमका गिरा रे बरेली के बज़ार में…” – बड़ी रोचक है इस गीत के बनने की कहानी

PLAYBACK
एक गीत सौ कहानियाँ – 66  ‘झुमका गिरा रे बरेली के बज़ार में…’  रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा...
Dil se Singer

नैना बरसे रिमझिम रिमझिम…..मदन मोहन साहब का रूहानी संगीत और लता की दिव्य आवाज़ …

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 577/2010/277 हालाँकि हमने या आपने कभी भूत नहीं देखा है न महसूस किया है, लेकिन आये दिन अख़बारों में या...
Dil se Singer

मैं प्यार का राही हूँ…मुसाफिर रफ़ी साहब ने हसीना आशा के कहा कुछ- सुना कुछ

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 514/2010/214 ‘गीत गड़बड़ी वाले’ शृंखला की आज है चौथी कड़ी। पिछले तीन कड़ियों में आपने सुने गायकों द्वारा की हुईं...
Dil se Singer

गोरे गोरे चाँद से मुख पर काली काली ऑंखें हैं ….कवितामय शब्द और सुंदर संगीत संयोजन का उत्कृष्ट मेल

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 505/2010/205 ‘एक प्यार का नग़मा है’, दोस्तों, सुप्रसिद्ध संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के स्वरबद्ध गीतों से सजी यह लघु शृंखला इन...
Dil se Singer

खत लिख दे संवरिया के नाम बाबू….आशा की मासूम गुहार एल पी के सुरों में ढलकर जैसे और भी मधुर हो गयी

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 504/2010/204 लक्ष्मीकांत प्यारेलाल के संगीतबद्ध गीतों की शृंखला ‘एक प्यार का नग़मा है’ की चौथी कड़ी में आज आवाज़ आशा...
Dil se Singer

मैंने रंग ली आज चुनरिया….मदन साहब के संगीत से शुरू हुई ओल्ड इस गोल्ड की परंपरा में एक विराम उन्हीं की एक और संगीत रचना पर

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 410/2010/110 ‘पसंद अपनी अपनी’ शृंखला की आज है अंतिम कड़ी। ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ पर युं तो इससे पहले भी पहेली...
Dil se Singer

जब छाए कहीं सावन की घटा….याद आते हैं तलत साहब और भी ज्यादा

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 357/2010/57 दर्द भरे गीतों के हमदर्द तलत महमूद की मख़मली आवाज़ और कोमल स्वभाव से यही निचोड़ निकलता है कि...