Tag : Rahat Fateh Ali Khan

सिनेमास्कोप

Jugni || Revisit and Rewind || Shefali Bhushan || Clinton Cerejo || Susheel P || Sajeev Sarathie

Sajeev
सिनेमा स्कोप रेकमेंडस में आज हम Revisit & Rewind कर रहे हैं 5 साल पहले प्रदर्शित हुई फिल्म जुगनी, जिसका संगीत अपने समय से काफी...
Uncategorized

महफ़िल ए कहकशां – 17, मेरा दिल तड़पे दिलदार बिना.. राहत साहब की दर्दीली आवाज़ में इस ग़मनशीं नज़्म का असर हज़ार गुणा हो जाता है

Pooja Anil
महफ़िल ए कहकशाँ 17  राहत फ़तेह अली खान दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर...
Uncategorized

मेरा दिल तड़पे दिलदार बिना.. राहत साहब की दर्दीली आवाज़ में इस ग़मनशीं नज़्म का असर हज़ार गुणा हो जाता है

PLAYBACK
कहकशाँ – 21 राहत फ़तेह अली ख़ान की आवाज़ में पंजाबी नगमा   “मेरा दिल तड़पे दिलदार बिना…” ’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी दोस्तों को हमारा...
Uncategorized

"यमला पगला दीवाना" का रंग चढाने में कामयाब हुए "चढा दे रंग" वाले अली परवेज़ मेहदी.. साथ है "टिंकू जिया" भी

Amit
Taaza Sur Taal 02/2011 – Yamla Pagla Deewana“अपने तो अपने होते हैं” शायद यही सोच लेकर अपना चिर-परिचित देवल परिवार “अपने” के बाद अपनी तिकड़ी...
Uncategorized

मेरा दिल तड़पे दिलदार बिना.. राहत साहब की दर्दीली आवाज़ में इस ग़मनशीं नज़्म का असर हज़ार गुणा हो जाता है

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #१०२ अभी कुछ महीनों से हमने अपनी महफ़िल “गज़लगो” पर केन्द्रित रखी थी.. हर महफ़िल में हम बस शब्दों के शिल्पी की हीं बातें...
Uncategorized

राहत साहब के सहारे अल्लाह के बंदों ने संगीत की नैया को संभाला जिसे नॉक आउट ने लगभग डुबो हीं दिया था

Amit
ताज़ा सुर ताल ४१/२०१० विश्व दीपक – सभी दोस्तों को नमस्कार! सुजॊय जी, कैसी रही दुर्गा पूजा और छुट्टियाँ? सुजॊय – बहुत बढ़िया, और आशा...
Uncategorized

"क्रूक" में कुमार के साथ तो "आक्रोश" में इरशाद कामिल के साथ मेलोडी किंग प्रीतम की जोड़ी के क्या कहने!!

Amit
ताज़ा सुर ताल ३८/२०१० सुजॊय – दोस्तों, नमस्कार, स्वागत है आप सभी का इस हफ़्ते के ‘ताज़ा सुर ताल’ में। विश्व दीपक जी, इस बार...
Uncategorized

अंजाना अंजानी की कहानी सुनाकर फिर से हैरत में डाला है विशाल-शेखर ने.. साथ है गीतकारों की लंबी फ़ौज़

Amit
ताज़ा सुर ताल ३४/२०१० विश्व दीपक – ‘ताज़ा सुर ताल’ में आज उस फ़िल्म की बारी जिसकी इन दिनों लोग, ख़ास कर युवा वर्ग, बड़ी...
Uncategorized

"तेरे मस्त-मस्त दो नैन" गाता हुआ हुड़हुड़ाता आ पहुँचा है एक दबंग, जिसके लिए मुन्नी भी बदनाम हो गई..

Amit
ताज़ा सुर ताल ३१/२०१० विश्व दीपक – ‘ताज़ा सुर ताल’ के इस अंक में हम सभी का स्वागत करते हैं। सुजॊय जी, अब ऐसा लगने...
Uncategorized

बहुत कुछ खत्म होके भी हिमेश भाई और संगीत के दरम्यां कुछ तो बाकी है.. और इसका सबूत है "मिलेंगे मिलेंगे"

Amit
ताज़ा सुर ताल २३/२०१० सुजॊय – सभी श्रोताओं व पाठकों का स्वागत है ‘ताज़ा सुर ताल’ के एक और ताज़े अंक में। इस शुक्रवार वह...