Tag : Rag – Malkauns

Dil se Singer

राग मालकौंस : SWARGOSHTHI – 445 : RAG MALKAUNS

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 445 में आज नौशाद की जन्मशती पर उनके राग – 1 : राग मालकौंस “मन तड़पत हरिदर्शन को आज…” नौशाद और मोहम्मद रफी...
Dil se Singer

राग मालकौंस : SWARGOSHTHI – 381 : RAG MALKAUNS

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 381 में आज राग से रोगोपचार – 10 : मध्यरात्रि का राग मालकौंस अनेक मानसिक और शारीरिक समस्याओं का निदान है यह राग...
Dil se Singer

राग भैरवी और मालकौंस : SWARGOSHTHI – 371 : RAG BHAIRAVI & MALKAUNS

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 371 में आज दस थाट, बीस राग और बीस गीत – 10 : भैरवी थाट पं. भीमसेन जोशी से राग भैरवी में खयाल...
Dil se Singer

राग मालकौंस : SWARGOSHTHI – 355 : RAG MALKAUNS

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 355 में आज पाँच स्वर के राग – 3 : “मन तड़पत हरिदर्शन को आज…” राजन-साजन मिश्र से श्रृंगाररस की बन्दिश और मुहम्मद...
Dil se Singer

मध्यरात्रि बाद के राग : SWARGOSHTHI – 307 : RAGAS AFTER MIDNIGHT

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 307 में आज राग और गाने-बजाने का समय – 7 : रात के तीसरे प्रहर के राग राग मालकौंस – “नन्द के छैला...
Dil se Singer

नौशाद के गीतों में राग-दर्शन : SWARGOSHTHI – 250 : RAG BASED SONGS BY NAUSHAD

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 250 में आज संगीत के शिखर पर – 11 : फिल्म संगीतकार नौशाद अली फिल्मों में रागदारी संगीत की सुगन्ध बिखेरने वाले अप्रतिम...
Dil se Singer

मध्यरात्रि बाद के राग : SWARGOSHTHI – 238 : RAGAS OF AFTER MIDNIGHT

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 238 में आज रागों का समय प्रबन्धन – 7 : रात के तीसरे प्रहर के राग राग मालकौंस – “नन्द के छैला ढीठ...
Dil se Singer

“बिन गुरु ज्ञान कहाँ से पाऊँ…” – शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य पर बैजु बावरा और उनके गुरु स्वामी हरिदास का स्मरण

PLAYBACK
एक गीत सौ कहानियाँ – 65  शिक्षक दिवस पर गुरु का स्मरण ‘मन तड़पत हरि दर्शन को आज…’  रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी श्रोता-पाठकों को...
Dil se Singer

भैरवी थाट के राग : SWARGOSHTHI – 223 : BHAIRAVI THAAT

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 223 में आज   दस थाट, दस राग और दस गीत – 10 : भैरवी थाट   राग भैरवी में ‘फुलवन गेंद से...
Dil se Singer

‘काली घोड़ी द्वारे कड़ी…’ : एक रोचक रागमाला गीत

कृष्णमोहन
प्लेबैक इण्डिया ब्रोडकास्ट रागो के रंग, रागमाला गीत के संग – 5  राग काफी, मालकौंस और भैरवी के माध्यम से क्रमशः विकसित होते प्रेम की...