Tag : qawwali

Uncategorized

मेरा दिल तड़पे दिलदार बिना.. राहत साहब की दर्दीली आवाज़ में इस ग़मनशीं नज़्म का असर हज़ार गुणा हो जाता है

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #१०२ अभी कुछ महीनों से हमने अपनी महफ़िल “गज़लगो” पर केन्द्रित रखी थी.. हर महफ़िल में हम बस शब्दों के शिल्पी की हीं बातें...