Tag : mohd rafi

एक गीत सौ अफ़साने

केतकी गुलाब जूही ।। Ek Geet Sau Afsane

Sajeev Sarathie
केतकी गुलाब जूही…. जानिए इस ऐतिहासिक गीत से जुड़ी सभी रोचक जानकारियां एक गीत सौ अफसाने के आज के एपीसोड में…Manna Dey Singer #shankarjaikishan #mohammadrafi...
Uncategorized

नौशाद के गीतों में राग-दर्शन : SWARGOSHTHI – 250 : RAG BASED SONGS BY NAUSHAD

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 250 में आज संगीत के शिखर पर – 11 : फिल्म संगीतकार नौशाद अली फिल्मों में रागदारी संगीत की सुगन्ध बिखेरने वाले अप्रतिम...
Uncategorized

स्वरगोष्ठी में आज : ठुमरी- ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे…’

कृष्णमोहन
‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की पहली वर्षगाँठ पर सभी पाठकों-श्रोताओं का हार्दिक अभिनन्दन    स्वरगोष्ठी-९८  में आज  फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी –९  श्रृंगार...
Uncategorized

“डफ़ली वाले डफ़ली बजा…” – शुरू-शुरू में नकार दिया गया यह गीत ही बना फ़िल्म का सफ़लतम गीत

PLAYBACK
कभी-कभी ऐसे गीत भी कमाल दिखा जाते हैं जिनसे निर्माण के समय किसी को कोई उम्मीद ही नहीं होती। शुरू-शुरू में नकार दिया गया गीत...
Uncategorized

२४ दिसम्बर – आज का कलाकार – मोहम्मद रफ़ी – जन्मदिन मुबारक

Amit
मोहम्मद रफ़ी एक ऐसा नाम है जिसे किसी परिचय की जरूरत नहीं.आज २४ दिसम्बर रफ़ी साहब का ८४ वाँ जन्मदिन है. हिन्दी सिनेमा के श्रेष्ठतम...
Uncategorized

तेरी बिंदिया रे….शब्द और सुरों का सुन्दर मिलन है ये गीत

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 668/2011/108 ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ में इन दिनों जारी है मजरूह सुल्तानपुरी पर केन्द्रित लघु शृंखला ‘…और कारवाँ बनता गया’। इसके...
Uncategorized

आपको प्यार छुपाने की बुरी आदत है…

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला (०१) आवाज़ की दुनिया के मेरे दोस्तों, आज से आवाज़ पर हम शुरू कर रहे हैं एक नया स्तंभ -“ओल्ड इस...
Uncategorized

नौशाद की तीन सर्वश्रेष्ठ फिल्मों के संगीत पर एक चर्चा

Amit
(पिछले अंक से आगे …) नौशाद अली का संगीत सभी के दिलों पर राज़ करता है। यदि अब तक सभी संगीतकारों का जिक्र होगा तो...
Uncategorized

मछलियाँ पकड़ने का शौकीन भी था वो सुरों का चितेरा

Amit
(पिछले अंक से आगे …)चाहें कोई पिछली पीढ़ी का श्रोता हो या आज की पीढ़ी का युवा वर्ग हर कोई नौशाद के संगीत पर झूमता...
Uncategorized

जवाँ है मुहब्बत, हसीं है ज़माना….आज भी नौशाद के संगीत का

Amit
“आज पुरानी यादों से कोई मुझे आवाज़ न दे…”, नौशाद साहब के इस दर्द भरे नग्में को आवाज़ दी थी मोहम्मद रफी साहब ने, पर...