Tag : mohammad rafi

Dil se Singer

राग मालकौंस : SWARGOSHTHI – 445 : RAG MALKAUNS

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 445 में आज नौशाद की जन्मशती पर उनके राग – 1 : राग मालकौंस “मन तड़पत हरिदर्शन को आज…” नौशाद और मोहम्मद रफी...
Dil se Singer

राग गुणकली : SWARGOSHTHI – 440 : RAG GUNAKALI

कृष्णमोहन
दीपोत्सव पर सभी पाठकों और श्रोताओं को हार्दिक शुभकामनाएँ  स्वरगोष्ठी – 440 में आज भैरव थाट के राग – 6 : राग गुणकली संजीव अभ्यंकर...
Dil se Singer

राग हमीर : SWARGOSHTHI – 412 : RAG HAMEER

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 412 में आज कल्याण थाट के राग – 10 : राग हमीर मालिनी राजुरकर से राग हमीर में खयाल और इस राग में...
Dil se Singer

कल्याण थाट : SWARGOSHTHI – 403 : KALYAN THAT

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 403 में आज कल्याण थाट के राग – 1 : राग कल्याण अर्थात यमन उस्ताद राशिद खाँ से राग कल्याण / यमन में...
Dil se Singer

राग मालकौंस : SWARGOSHTHI – 381 : RAG MALKAUNS

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 381 में आज राग से रोगोपचार – 10 : मध्यरात्रि का राग मालकौंस अनेक मानसिक और शारीरिक समस्याओं का निदान है यह राग...
Dil se Singer

ठुमरी पीलू और देश : SWARGOSHTHI – 341 : THUMARI PILU & DESH

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 341 में आज फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी – 8 : ठुमरी पीलू और देश दो भिन्न रागों में श्रृंगार रस...
Dil se Singer

राग हमीर : SWARGOSHTHI – 297 : RAG HAMIR

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 297 में आज नौशाद के गीतों में राग-दर्शन – 10 : राग हमीर का रंग “मधुबन में राधिका नाचे रे, गिरधर की मुरलिया...
Dil se Singer

“मैं कहीं कवि ना बन जाऊँ…”, इस गीत का मुखड़ा हसरत जयपुरी ने नहीं बल्कि जयकिशन ने लिखा था।

PLAYBACK
एक गीत सौ कहानियाँ – 98  ‘मैं कहीं कवि ना बन जाऊँ…‘  रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार।...
Dil se Singer

राग छायानट : SWARGOSHTHI – 275 : RAG CHHAYANAT

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 275 में आज मदन मोहन के गीतों में राग-दर्शन – 8 : जन्मदिन पर विशेष प्रस्तुति ‘बाद मुद्दत के ये घड़ी आई, आप...
Dil se Singer

जब रफ़ी साहब अपनी आवाज़ के जादू में मिर्ज़ा ग़ालिब की ग़ज़ल सुनाते हैं

Pooja Anil
महफ़िल ए कहकशां 5 दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, “महफिल ए कहकशां” के...