Tag : laxmikant pyarelal

Uncategorized

हम बने तुम बनें एक दूजे के लिए….और एक दूजे के लिए ही तो हैं आवाज़ और उसके संगीत प्रेमी श्रोता

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 559/2010/259 फ़िल्म संगीत के सुनहरे दौर के चुने हुए युगल गीतों को सुनते हुए आज हम क़दम रख रहे हैं...
Uncategorized

पत्ता पत्ता बूटा बूटा हाल हमारा जाने है….मीर ने दी चिंगारी तो मजरूह साहब ने बात कर दी आम इश्क वाली

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 557/2010/257 ‘एक मैं और एक तू’ – फ़िल्म संगीत के सुनहरे दौर के सदाबहार युगल गीतों से सजी इस लघु...
Uncategorized

कहते हैं मुझको हवा हवाई….अदाएं, जलवे, रिदम, आवाज़ और नृत्य के जबरदस्त संगम के बीच भी हुई एक छोटी सी भूल

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 520/2010/220 ‘आवाज़’ के सभी सुननेवालों और पाठकों को हमारी तरफ़ से ज्योति-पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकानाएँ। यह पर्व आप सब...
Uncategorized

एक प्यार का नगमा है…..संगीतकार जोड़ी एल पी के विशाल संगीत खजाने को, दशकों दशकों तक फैले संगीत सफर को सलाम करता एक गीत

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 510/2010/210 “मैं एक गाना बोलता हूँ आपको जो मुझे बहुत पसंद है, और सब से बड़ी ख़ुशी मुझे इसलिए है...
Uncategorized

खुशी की वो रात आ गयी….. और माहौल में गम की सदा भी घुल गयी, एल पी और मुकेश का गठबंधन

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 509/2010/209 ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ के दोस्तों, नमस्कार! इन दिनों इस स्तंभ में आप सुन रहे हैं फ़िल्म जगत के सुप्रसिद्ध...
Uncategorized

रोज शाम आती थी, मगर ऐसी न थी…..जब शाम के रंग में हो एल पी के मधुर धुनों की मिठास, तो क्यों न बने हर शाम खास

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 508/2010/208 लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के धुनों से सजी लघु शंखला ‘एक प्यार का नग़मा है’ में आज एक और आकर्षक गीत की...
Uncategorized

खिजां के फूल पे आती कभी बहार नहीं…जब दर्द में डूबी किशोर की आवाज़ को साथ मिला एल पी के सुरों का

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 507/2010/207 ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ पर इन दिनों आप सुन रहे हैं फ़िल्म जगत के सुप्रसिद्ध संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के संगीत...
Uncategorized

राम जी की निकली सवारी….आईये आज दशहरे के दिन श्रीराम महिमा गायें बख्शी साहब और एल पी के सुरों में डूबकर

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 506/2010/206 ‘आवाज़’ के सभी दोस्तों को विजयदशमी और दशहरा की हार्दिक शुभकामनाएँ देते हुए हम शुरु कर रह रहे हैं...
Uncategorized

गोरे गोरे चाँद से मुख पर काली काली ऑंखें हैं ….कवितामय शब्द और सुंदर संगीत संयोजन का उत्कृष्ट मेल

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 505/2010/205 ‘एक प्यार का नग़मा है’, दोस्तों, सुप्रसिद्ध संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के स्वरबद्ध गीतों से सजी यह लघु शृंखला इन...
Uncategorized

खत लिख दे संवरिया के नाम बाबू….आशा की मासूम गुहार एल पी के सुरों में ढलकर जैसे और भी मधुर हो गयी

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 504/2010/204 लक्ष्मीकांत प्यारेलाल के संगीतबद्ध गीतों की शृंखला ‘एक प्यार का नग़मा है’ की चौथी कड़ी में आज आवाज़ आशा...