Tag : kamal barot

Uncategorized

बातों बातों में – 14 : गीतकार असद भोपाली के बारे में उनके सुपुत्र ग़ालिब असद भोपाली से बातचीत

कृष्णमोहन
बातों बातों में – 14 गीतकार असद भोपाली के बारे में उनके बेटे ग़ालिब असद भोपाली से बातचीत जो बिक ही नहीं पाई वो वैसे...
Uncategorized

गौड़ मल्हार : SWARGOSHTHI – 226 : GAUD MALHAR

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 226 में आज रंग मल्हार के – 3 : राग गौड़ मल्हार ‘गरजत बरसत भीजत आई लो…’ ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ...
Uncategorized

भैरव थाट के राग : SWARGOSHTHI – 217 : BHAIRAV THAAT

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 217 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 4 : भैरव थाट राग भैरव और जोगिया के स्वरों में शिव...
Uncategorized

‘गरजत बरसत भीजत आई लो…’ : SWARGOSHTHI – 177 : Raag Gaud Malhar

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 177 में आज वर्षा ऋतु के राग और रंग – 3 : राग गौड़ मल्हार ‘…सावन आइलों लाल चुनरिया देहों मंगाय…’   ‘रेडियो प्लेबैक...
Uncategorized

राग जोगिया में भक्तिरस

कृष्णमोहन
   स्वरगोष्ठी – 145 में आज रागों में भक्तिरस – 13  ‘हे नटराज गंगाधर शम्भो भोलेनाथ…’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच...
Uncategorized

हु तू तू….सुनिए अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस पर इस कब्बडी गीत को और सलाम कीजिए खेलों में जबरदस्त प्रदर्शन दिखाने वाली भारतीय महिलाओं को

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 608/2010/308 आज है ८ मार्च, यानी कि अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस। इस अवसर पर हम ‘हिंद-युग्म’ के सभी महिला मित्रों को...
Uncategorized

गरजत बरसात सावन आयो री….सुन कर इस गीत को जैसे बिन बादल बारिश में भीग जाता है मन

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 395/2010/95 भारतीय शास्त्रीय संगीत की यह विशिष्टता रही है कि हर मौसम, हर ऋतु के हिसाब से इसे गाया जा...
Uncategorized

हँसता हुआ नूरानी चेहरा ….क्यों न हो ओल्ड इस गोल्ड के सुनहरे गीतों को सुनते हुए

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 336/2010/36 इन दिनों ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ पर चल रहा है फ़िल्म संगीत के सुनहरे युग के कुछ कमचर्चित लेकिन बेहद...
Uncategorized

दादी अम्मा दादी अम्मा मान जाओ…जब तुतलाती आवाजों में ऐसे बच्चे मनाएं तो कौन भला रूठा रह पाए

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 267 ‘ब्रच्चों का एक गहरा लगाव होता है अपने दादा-दादी और नाना-नानी के साथ। कहते हैं कि बूढ़ों और बच्चों...