Tag : kamaal amrohi

एक गीत सौ अफ़साने

तेरा हिज्र मेरा नसीब है || Ek Geet Sau Afsane

Sajeev Sarathie
“तेरा हिज्र मेरा नसीब है, तेरा ग़म ही मेरी हयात है, मुझे तेरी दूरी का ग़म हो क्यों, तू कहीं भी हो मेरे साथ है…”...
Uncategorized

जब एक “मुक्कमल शायर” की तलाश कमाल अमरोही को ले आई निदा फाजली तक

Sajeev
दोस्तों सुजोय और विश्व दीपक द्वारा संचालित “कहकशां” और “महफिले ग़ज़ल” का ऑडियो स्वरुप लेकर हम हाज़िर हैं, महफिले कहकशां के रूप में. पूजा अनिल...
Uncategorized

मौसम है आशिकाना, ये दिल कहीं से उनको ऐसे में ढूंढ लाना…आईये सज गयी है महफिल ओल्ड इस गोल्ड की

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 251 दोस्तों, शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा शैल ‘अदा’ जी के बाद एक लम्बे इंतेज़ार के बाद हमें मिली...
Uncategorized

ये खेल होगा नहीं दुबारा…बड़ी हीं मासूमियत से समझा रहे हैं "निदा" और "जगजीत सिंह"

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #५० महफ़िल-ए-गज़ल की जब हमने शुरूआत की थी, तब हमने सोचा भी नहीं था कि गज़लों का यह सफ़र ५०वीं कड़ी तक पहुँचेगा। लेकिन...
Uncategorized

कहाँ हाथ से कुछ छूट गया याद नहीं – मीना कुमारी की याद में

Amit
मीना कुमारी ने ‘हिन्दी सिनेमा’ जगत में जिस मुकाम को हासिल किया वो आज भी अस्पर्शनीय है ।वे जितनी उच्चकोटि की अदाकारा थीं उतनी ही...