Tag : KAHAKASHAN

Uncategorized

“सातों बार बोले बंसी” और “जाने दो मुझे जाने दो” जैसे नगीनों से सजी है आज की “गुलज़ार-आशा-पंचम”-मयी महफ़िल

PLAYBACK
कहकशाँ – 24 गुलज़ार, पंचम और आशा ’दिल पड़ोसी है’ में   “दिल पड़ोसी है, मगर मेरा तरफ़दार नहीं…” ’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी दोस्तों को...
Uncategorized

मेरा दिल तड़पे दिलदार बिना.. राहत साहब की दर्दीली आवाज़ में इस ग़मनशीं नज़्म का असर हज़ार गुणा हो जाता है

PLAYBACK
कहकशाँ – 21 राहत फ़तेह अली ख़ान की आवाज़ में पंजाबी नगमा   “मेरा दिल तड़पे दिलदार बिना…” ’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी दोस्तों को हमारा...
Uncategorized

तुम बोलो कुछ तो बात बने….जगजीत-चित्रा की दिली ख़्वाहिश आज ’कहकशाँ’ में

PLAYBACK
कहकशाँ – 12 जगजीत-चित्रा की दिली ख़्वाहिश  “आइये चराग़-ए-दिल आज ही जलाएँ हम…” ’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी दोस्तों को हमारा सलाम! दोस्तों, शेर-ओ-शायरी, नज़्मों,...
Uncategorized

“रसन बचे जो भुजंगन से, सो कोटिन लक्ष निछावर पावे…” रसन पिया को खिराज आज ’कहकशाँ’ में

PLAYBACK
कहकशाँ – 2 उस्ताद अब्दुल रशीद ख़ाँ (रसन पिया) को खिराज   “रसन बचे जो भुजंगन से, सो कोटिन लक्ष निछावर पावे” ’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के...