Tag : kabban mirza

एक गीत सौ अफ़साने

तेरा हिज्र मेरा नसीब है || Ek Geet Sau Afsane

Sajeev Sarathie
“तेरा हिज्र मेरा नसीब है, तेरा ग़म ही मेरी हयात है, मुझे तेरी दूरी का ग़म हो क्यों, तू कहीं भी हो मेरे साथ है…”...
Uncategorized

“मुझे तेरी दूरी का ग़म हो क्यों?” वाक़ई कब्बन मिर्ज़ा की आवाज़ हमारे आसपास है…

PLAYBACK
एक गीत सौ कहानियाँ – 36  ‘तेरा हिज्र मेरा नसीब है...’ ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों,...
Uncategorized

तेरा हिज्र मेरा नसीब है… जब कब्बन मिर्ज़ा से गवाया खय्याम साहब और कमाल अमरोही ने

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 458/2010/158 ‘रज़िया सुल्तान’ कमाल अमरोही की एक महत्वाकांक्षी फ़िल्म थी, लेकिन बदक़िस्मती से फ़िल्म असफल रही। हाँ फ़िल्म के गानें...
Uncategorized

रविवार सुबह की कॉफी और कुछ दुर्लभ गीत (6)

Sajeev
रविवार सुबह की कॉफी और कुछ दुर्लभ गीत के नए अंक में आपका स्वागत है. आज जो गीत मैं आपके लिए लेकर आया हूँ वो...