Tag : javed akhtar

Dil se Singer

राग पीलू : SWARGOSHTHI – 458 : RAG PILU

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 458 में आज काफी थाट के राग – 2 : राग पीलू विदुषी गिरिजा देवी से राग पीलू में होरी और आरती अंकलीकर...
Dil se Singer

संगीत समीक्षा – जोक्कोमोन – बच्चों के लिए कुछ गीत लेकर आई शंकर-एहसान-लॉय की तिकड़ी जावेद साहब के शब्दों में

Sajeev
Taaza Sur Taal (TST) – 07/2011 – ZOKKOMON नये फ़िल्म संगीत में दिलचस्पी रखने वाले पाठकों का मैं, सुजॉय चटर्जी, ‘ताज़ा सुर ताल’ के आज...
Dil se Singer

कहते हैं मुझको हवा हवाई….अदाएं, जलवे, रिदम, आवाज़ और नृत्य के जबरदस्त संगम के बीच भी हुई एक छोटी सी भूल

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 520/2010/220 ‘आवाज़’ के सभी सुननेवालों और पाठकों को हमारी तरफ़ से ज्योति-पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकानाएँ। यह पर्व आप सब...
Dil se Singer

तुमको देखा तो ये ख्याल आया….कि इतनी सुरीली गज़ल पर क्यों न हम कुर्बान जाए

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 456/2010/156 ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ के एक नए सप्ताह के साथ हम हाज़िर हैं। इससे पहले कि हम आज की प्रस्तुति...
Dil se Singer

बाई दि वे, ऑन दे वे, "आयशा" से हीं कुछ सुनते-सुनाते चले जा रहे हैं जावेद साहब.. साथ में हैं अमित भी

Amit
ताज़ा सुर ताल २७/२०१० विश्व दीपक – नमस्कार दोस्तों! ‘ताज़ा सुर ताल’ में आज हम जिस फ़िल्म के गीतों को लेकर आए हैं, उसके बारे...
Dil se Singer

हमने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर.. यादें गढने और चेहरे पढने में उलझे हैं रूप कुमार और जाँ निसार

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #९० “जाँ निसार अख्तर साहिर लुधियानवी के घोस्ट राइटर थे।” निदा फ़ाज़ली साहब का यह कथन सुनकर आश्चर्य होता है.. घोर आश्चर्य। पता करने...
Dil se Singer

जब भी चूम लेता हूँ इन हसीन आँखों को…. कैफ़ी की "कैफ़ियत" और रूप की "रूमानियत" उतर आई है इस गज़ल में..

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #८१ पि छली दस कड़ियों में हमने बिना रूके चचा ग़ालिब की हीं बातें की। हमारे लिए वह सफ़र बड़ा हीं सुकूनदायक रहा और...
Dil se Singer

ये कहाँ आ गए हम…यूँ हीं जावेद साहब के लिखे गीतों को सुनते सुनते

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 317/2010/17 स्वरांजली’ की आज की कड़ी में हम जन्मदिन की मुबारक़बाद दे रहे हैं गीतकार, शायर और पटकथा व संवाद...
Dil se Singer

हाय हम क्या से क्या हो गए….लज्जत-ए-इश्क़ महसूस करें जावेद अख़्तर और अल्का याज्ञनिक के साथ

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #६० आज की महफ़िल में हम हाज़िर हैं शरद जी की पसंद की तीसरी और अंतिम नज़्म लेकर। गायकी के दो पुराने उस्तादों(मन्ना डे...
Dil se Singer

रविवार सुबह की कॉफी और एक फीचर्ड एल्बम पर बात, दीपाली दिशा के साथ (१६)

Sajeev
“क्या लिखूं क्या छोडूं, सवाल कई उठते हैं, उस व्यक्तित्व के आगे मैं स्वयं को बौना पाती हूँ” लताजी का व्यक्तित्व ऐसा है कि उनके...