Tag : hindi poem

Dil se Singer

शत्रुओं की छाती पर लोहा कुट.. बाबा नागार्जुन की हुंकार के साथ आईये करें गणतंत्र दिवस का स्वागत

विश्व दीपक
महफ़िल-ए-ग़ज़ल ०२ बचपन बीत जाता है, बचपना नहीं जाता। बचपन की कुछ यादें, कुछ बातें साथ-साथ आ जाती हैं। उम्र की पगडंडियों पर चलते-चलते उन...
Dil se Singer

अपने हाथों करें 'अनुगूँज' का विमोचन

Amit
साहित्यप्रेमियो, हिन्द-युग्म विगत 20 महीनों से प्रकाशन में सक्रिय है। हम अपने यहाँ से प्रकाशित पुस्तकों के ऑनलाइन विमोचन का अनूठा कार्यक्रम संयोजित करते हैं,...
Dil se Singer

नव दधीचि हड्डियां गलाएँ, आओ फिर से दिया जलाएँ… अटल जी के शब्दों को मिला लता जी की आवाज़ का पुर-असर जादू

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #१०७ राजनीति और साहित्य साथ-साथ नहीं चलते। इसका कारण यह नहीं कि राजनीतिज्ञ अच्छा साहित्यकार नहीं हो सकता या फिर एक साहित्यकार अच्छी राजनीति...