Tag : classical music

Dil se Singer

'सुर संगम' में आज – 'तूती' की शोर में गुम हुआ 'नक्कारा'

Sajeev
सुर संगम – 20 – संकट में है ये शुद्ध भारतीय वाध्य प्राचीन ग्रन्थों में इसका उल्लेख ‘दुन्दुभी’ नाम से किया गया है| देवालयों में...
Dil se Singer

सुर संगम में आज – राजस्थान की आत्मा में बसा है माँगणियार लोक-संगीत

Sajeev
सुर संगम – 11 – राजस्थान का माँगणियार लोक-संगीत लोकगीतों में धरती गाती है, पर्वत गाते हैं, नदियाँ गाती हैं, फसलें गाती हैं। उत्सव, मेले...
Dil se Singer

शततंत्री वीणा से आधुनिक संतूर तक, वादियों की खामोशियों को सुरीला करता ये साज़ और निखरा पंडित शिव कुमार शर्मा के संस्पर्श से

Sajeev
सुर संगम – 10 – संतूर की गूँज – पंडित शिव कुमार शर्मा इसके ऊपरी भाग पर लकड़ी के पुल से बने होते हैं जिनके...
Dil se Singer

सुर संगम में आज – बीन का लहरा और इस वाध्य से जुडी कुछ बातें

Sajeev
सुर संगम – 08 पुंगी या बीन के चाहे कितने भी अलग अलग नाम क्यों न हो, इस साज़ का जो गठन है, वह लगभग...
Dil se Singer

सुर संगम में आज – बेगम अख्तर की आवाज़ में ठुमरी और दादरा का सुरूर

Sajeev
सुर संगम – 07 कुछ लोगों का यह सोचना है कि मॊडर्ण ज़माने में क्लासिकल म्युज़िक ख़त्म हो जाएगी; उसे कोई तवज्जु नहीं देगा, पर...
Dil se Singer

सुर संगम में आज – उस्ताद हबीब ख़ान का बजाया विचित्र वीणा वादन

Sajeev
सुर संगम – 06 विचित्र वीणा का रेंज पाँच ऒक्टेव का होता है। सितार की तरह विचित्र वीणा भी उंगलियों में मिज़राब (plectrums) पहनकर बजाया...
Dil se Singer

सुर संगम में आज -भारतीय संगीताकाश का एक जगमगाता नक्षत्र अस्त हुआ -पंडित भीमसेन जोशी को आवाज़ की श्रद्धांजली

Sajeev
सुर संगम – 05 भारतीय संगीत की विविध विधाओं – ध्रुवपद, ख़याल, तराना, भजन, अभंग आदि प्रस्तुतियों के माध्यम से सात दशकों तक उन्होंने संगीत...
Dil se Singer

सुर संगम में आज – पंडित बृज नारायण का सरोद वादन – राग श्री

Sajeev
सुर संगम – 04 राग श्री, एक प्राचीन उत्तर भारतीय राग है पूर्वी ठाट का। इसे भगवान शिव से जोड़ा जाता है। यह राग सिख...
Dil se Singer

सुर संगम में आज – उस्ताद अमीर ख़ान का गायन – राग मालकौन्स

Sajeev
सुर संगम – 03 उस्ताद अमीर ख़ान ने “अतिविलंबित लय” में एक प्रकार की “बढ़त” ला कर सबको चकित कर दिया था। इस बढ़त में...
Dil se Singer

सुर संगम में आज – गायन -उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ान, राग – गुनकली

Sajeev
सुर संगम – 01 अगर हर घर में एक बच्चे को हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत सिखाया गया होता तो इस देश का कभी भी बंटवारा नहीं...