Tag : bharat vyas

Dil se Singer

राग नट भैरवी : SWARGOSHTHI – 490 : RAG NAT BHAIRAVI

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 490 में आज  राज कपूर के विस्मृत संगीतकार – 6 : संगीतकार – मदन मोहन  एकमात्र गीत, जिसमें हेमन्त कुमार ने राज कपूर...
Dil se Singer

राग मध्यमाद सारंग : SWARGOSHTHI – 476 : RAG MADHYAMAD SARANG : पण्डित जसराज को श्रद्धांजलि

कृष्णमोहन
अष्टछाप गायकी के संवाहक पण्डित जसराज को “रेडियो प्लेबैक इण्डिया” की भावभीनी श्रद्धांजलि  स्वरगोष्ठी – 476 में आज  काफी थाट के राग – 20 :...
Dil se Singer

राग चन्द्रकौंस : SWARGOSHTHI – 358 : RAG CHANDRAKAUNS

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 358 में आज पाँच स्वर के राग – 6 : “सन सनन सनन जा री ओ पवन…” प्रभा अत्रे से राग चन्द्रकौंस की...
Dil se Singer

सूर मल्हार : SWARGOSHTHI – 283 : SUR MALHAR

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 283 में आज पावस ऋतु के राग – 4 : पण्डित भीमसेन जोशी से सुनिए सूर मल्हार “बादरवा गरजत आए…” और “बादरवा बरसन...
Dil se Singer

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

कृष्णमोहन
स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट ‘तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर...
Dil se Singer

जननी जन्मभूमि स्वर्ग से भी महान है….भारत व्यास के शब्दों में मातृभूमि का जयगान

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 721/2011/161 सनमस्कार! ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ के सभी दोस्तों का हार्दिक स्वागत है इस नए सप्ताह में। दोस्तों, कल है 15...
Dil se Singer

क्यों अखियाँ भर आईं, भूल सके न हम तुम्हे….सुनिए मन्ना दा का स्वरबद्ध एक गीत भी

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 643/2010/343 ‘अपने सुरों में मेरे सुरों को बसा लो’ – मन्ना डे पर केन्द्रित इस शृंखला में मैं, कृष्णमोहन मिश्र...
Dil se Singer

चली राधे रानी, आँखों में पानी….भक्ति और प्रेम का समावेश है ये गीत

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 542/2010/242 “With his very first film Udayer Pathe (Hamrahi in Hindi), Bimal Roy was able to sweep aside the cobwebs...
Dil se Singer

आधा है चंद्रमा रात आधी…..पर हम वी शांताराम जैसे हिंदी फिल्म के लौह स्तंभ पर अपनी बात आधी नहीं छोडेंगें

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 535/2010/235 ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ के दोस्तों नमस्कार! ‘हिंदी सिनेमा के लौह स्तंभ’ – इस लघु शृंखला के पहले खण्ड के...
Dil se Singer

ए मलिक तेरे बंदे हम….एक कालजयी प्रार्थना जो आज तक एक अद्भुत प्रेरणा स्रोत है

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 534/2010/234 फ़िल्मकार वी. शांताराम द्वारा निर्मित और/ या निर्देशित फ़िल्मों के गीतों से सजी लघु शृंखला ‘हिंदी सिनेमा के लौह...