Tag : ashok pandey

Dil se Singer

सांसों की माला में सिमरूं मैं पी का नाम…बाबा नुसरत फ़तेह अली ख़ां की आवाज़ में एक दुर्लभ कम्पोज़ीशन

Amit
अपनी आकृति पए ध्यान मत दो, चाहे वह कैसी भी सुन्दर हो या बदसूरतप्रेम पर ध्यान दो और उस लक्ष्य पर जहां तुम्हें पहुंचना है...
Dil se Singer

झूमो रे, दरवेश…( भाग १ ), सूफी संगीत परम्परा पर एक विशेष श्रृंखला, अशोक पाण्डे की कलम से

Amit
सूफी संगीत यानी, स्वरलहरियों पर तैरकर जाना और ईश्वर रुपी समुंदर में विलीन हो जाना, सूफी संगीत यानी, “मै” का खो जाना और “तू” हो...