Tag : nusrat fateh ali khan

Uncategorized

ये बाज़ी इश्क़ की बाज़ी है जो चाहो लगा दो…. महफ़िल में पहली मर्तबा "नुसरत" और "फ़ैज़" एक साथ

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #४६ पिछली कड़ी में जहाँ सारे जवाब परफ़ेक्ट होते-होते रह गए थे(शरद जी अपने दूसरे जवाब के साथ कड़ी संख्या जोड़ना भूल गए थे),...
Uncategorized

तेरी आवाज़ आ रही है अभी…. महफ़िल-ए-शाइर और "नासिर"

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #३० “महफ़िल-ए-गज़ल” के २५वें वसंत (यूँ तो वसंत साल में एक बार हीं आता है, लेकिन हम ने उसे हफ़्ते में दो बार आने...
Uncategorized

शहर के दुकानदारों को जावेद अख्तर की सलाह – एल्बम संगम से नुसरत साहब की आवाज़ में

Amit
बात एक एल्बम की # 07 फीचर्ड आर्टिस्ट ऑफ़ दा मंथ – नुसरत फतह अली खान और जावेद अख्तर.फीचर्ड एल्बम ऑफ़ दा मंथ – “संगम”...
Uncategorized

जब तेरी धुन में जिया करते थे…..महफ़िल-ए-हसरत और बाबा नुसरत

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #१४ कुछ फ़नकार ऐसे होते हैं, जिनकी ना तो कोई कृति पुरानी होती है और ना हीं कीर्ति पर कोई दाग लगता है। वह...
Uncategorized

वाइस ऑफ़ हेवन – कोई बोले राम-राम, कोई खुदाए……..नुसरत फ़तेह अली खान.

Amit
बात एक एल्बम की # 06 फीचर्ड आर्टिस्ट ऑफ़ दा मंथ – नुसरत फतह अली खान और जावेद अख्तर.फीचर्ड एल्बम ऑफ़ दा मंथ – “संगम”...
Uncategorized

आफ़रीन आफ़रीन…कौन न कह उठे नुसरत साहब की आवाज़ और जावेद साहब को बोलों को सुन…

Amit
बात एक एल्बम की # 05 फीचर्ड आर्टिस्ट ऑफ़ दा मंथ – नुसरत फतह अली खान और जावेद अख्तर.फीचर्ड एल्बम ऑफ़ दा मंथ – “संगम”...
Uncategorized

आबिदा और नुसरत एक साथ…महफिल-ए-ग़ज़ल में

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #०२ उनकी नज़र का दोष ना मेरे हुनर का दोष,पाने को मुझको हो चला है इश्क सरफ़रोश। इश्क वो बला है जो कब किस...
Uncategorized

अखियाँ नु चैन न आवें….नुसरत बाबा का रूहानी अंदाज़ महफ़िल-ए-ग़ज़ल में

Sajeev
महफ़िल-ए-ग़ज़ल # ०१ अब तो आ जा कि आँखें उदास बैठी हैं,भूलकर होश-औ-गुमां बदहवास बैठी हैं। इश्क की कशिश हीं ऎसी है कि साजन सामने...
Uncategorized

सांसों की माला में सिमरूं मैं पी का नाम…बाबा नुसरत फ़तेह अली ख़ां की आवाज़ में एक दुर्लभ कम्पोज़ीशन

Amit
अपनी आकृति पए ध्यान मत दो, चाहे वह कैसी भी सुन्दर हो या बदसूरतप्रेम पर ध्यान दो और उस लक्ष्य पर जहां तुम्हें पहुंचना है...
Uncategorized

ख़ुसरो निज़ाम से बात जो लागी

Amit
भारतीय उपमहाद्वीप में प्रचलित सूफ़ी संगीत की विधाओं में सबसे लोकप्रिय है क़व्वाली. इस विधा के जनक के रूप में पिछली कड़ी में अमीर ख़ुसरो...