Tag : mubarak begum

Uncategorized

ये मूह और मसूर की दाल….मुहावरों ने छेड़ी दिल की बात और बना एक और फिमेल डूईट

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 397/2010/97 भाषा की सजावट के लिए पौराणिक समय से जो अलग अलग तरह के माध्यम चले आ रहे हैं, उनमें...
Uncategorized

कभी तन्हाईयों में यूं हमारी याद आएगी….मुबारक बेगम की दर्द भरी सदा

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 340/2010/40 फ़िल्म संगीत के सुनहरे दौर की कमचर्चित पार्श्वगायिकाओं को सलाम करते हुए आज हम आ पहुँचे हैं इस ख़ास...