Tag : main ye soch kar uske dar se utha tha

Uncategorized

मैं ये सोच कर उसके दर से उठा था…रफी साहब के गाये बहतरीन नज्मों में से एक

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 137 ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ में इन दिनों हम उस सुर साधक की बातें कर रहे हैं जिनका अंदाज़ था सब...