Tag : hemant kumar

Uncategorized

लहरों पे लहर, उल्फत है जवाँ….हेमंत दा इस गीत में इतनी भारतीयता भरी है कि शायद ही कोई कह पाए ये गीत "इंस्पायर्ड" है

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 441/2010/141 नमस्कार! ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ की एक नई सप्ताह के साथ हम फिर एक बार हाज़िर हैं। दोस्तों, हमारे देश...
Uncategorized

सावन में बरखा सताए….लीजिए एक शिकायत भी सुनिए मेघों की रिमझिम से

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 434/2010/134 ‘रिमझिम के तराने’ शृंखला की चौथी कड़ी में आज प्रस्तुत है एक ऐसा गीत जिसमें है जुदाई का रंग।...
Uncategorized

जितने अच्छे गायक थे, उतने ही बढ़िया संगीतकार भी थे हेमंत दा

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड /रिवाइवल # ४० युं तो शक़ील बदायूनी ने ज़्यादातर संगीतकार नौशाद साहब के लिए ही गीत लिखे, लेकिन दूसरे संगीतकारों के लिए...
Uncategorized

आज मुझे कुछ कहना है…जब साहिर की अधूरी चाहत को स्वर दिए सुधा मल्होत्रा और किशोर कुमार ने

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 402/2010/102 ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ पर कल से हमने शुरु की है आप ही के पसंदीदा गीतों पर आधारित लघु शृंखला...
Uncategorized

आ दो दो पंख लगा के पंछी बनेंगे…आईये लौट चलें बचपन में इस गीत के साथ

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 396/2010/96 पार्श्वगायिकाओं के गाए युगल गीतों पर आधारित ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ की इस लघु शृंखला ‘सखी सहेली’ की आज की...
Uncategorized

दे दी हमें आजादी बिना खडग बिना ढाल…..साबरमती के संत को याद कर रहा है आज आवाज़ परिवार

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 330/2010/30 आज है ३० जनवरी। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का बलिदान दिवस। बापु के इस स्मृति दिवस को पूरा देश ‘शहीद...
Uncategorized

वो शाम कुछ अजीब थी…जब किशोर दा की संजीदा आवाज़ में हेमंत दा के सुर थे

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 323/2010/23 आज ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ की इस कड़ी की शुरुआत में हम श्रद्धांजली अर्पित करते हैं इस देश के अन्यतम...
Uncategorized

मुझको तुम जो मिले ये जहान मिल गया…जिस अभिनेत्री को मिली गीता की सुरीली आवाज़, वो यही गाती नज़र आई

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 279 ‘गीतांजली’ की नौवी कड़ी में आज गीता दत्त की आवाज़ सजने वाली है माला सिंहा पर। दोस्तों, हमने इस...
Uncategorized

नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए…..आज भी बच्चे इस गीत को सुन मुस्कुरा देते हैं

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 261 “घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो युं कर लें, किसी रोते हुए बच्चे को हँसाया जाए”। दोस्तों, किसी...
Uncategorized

ये रात ये चांदनी फिर कहाँ, सुन जा दिल की दास्ताँ….पुरअसर आवाज़ संगीत और शब्दों का शानदार संगम

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 247 साहिर लुधियानवी और सचिन देव बर्मन को एक साथ समर्पित शृंखला ‘जिन पर नाज़ है हिंद को’ में आप...