Tag : ghulam ali

Uncategorized

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं.. मेहदी साहब के सुपुत्र ने कुछ इस तरह उभारा फ़राज़ की ख्वाहिशों को

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #८४ पाकिस्तान से खबर है कि अस्वस्थ होने के बावजूद मेहदी हसन एक बार फिर अपनी जन्मभूमि पर आना चाहते हैं। राजस्थान के शेखावटी...
Uncategorized

हम को अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है….गुलाम अली के मार्फ़त जता रहे हैं "हसरत मोहानी" साहब

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #५५ आज की महफ़िल में हम हाज़िर हैं सीमा जी की पसंद की तीसरी गज़ल लेकर। गज़लों की इस फ़ेहरिश्त को देखकर लगता है...
Uncategorized

खुदाया तूने कैसे ये जहां सारा बना डाला…..गुलाम अली की मार्फ़त पूछ रहे हैं आनंद बख्शी

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #३७ दिशा जी की पसंद की दूसरी गज़ल लेकर आज हाज़िर हैं हम। आज के अंक में जो गज़ल हम आप सबको सुनवाने जा...
Uncategorized

तेरी आवाज़ आ रही है अभी…. महफ़िल-ए-शाइर और "नासिर"

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #३० “महफ़िल-ए-गज़ल” के २५वें वसंत (यूँ तो वसंत साल में एक बार हीं आता है, लेकिन हम ने उसे हफ़्ते में दो बार आने...
Uncategorized

महफ़िल-ए-गज़ल एक नए अंदाज़ में ….संग है गुलाम अली की आवाज़

Amit
महफ़िल-ए-ग़ज़ल #०४ सन् ८३ में पैशन्स(passions) नाम की गज़लों की एक एलबम आई थी। उस एलबम में एक से बढकर एक नौ गज़लें थी। मज़े...
Uncategorized

गए दिनों का सुराग लेकर…आशा जी और गुलाम अली

Amit
पूरे कायनात की मौसिकी यहां इस परिवार में बसती है… चूँकि इस पूरे माह हम बात कर रहे हैं मंगेशकर बहनों की, जिनकी दिव्य आवाजों...