Tag : hemant kumar

Uncategorized

ओ बेकरार दिल हो चुका है मुझको आंसुओं से प्यार….लता का गाया एक बेमिसाल गीत

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 239 कल हमने बात की थी हेमन्त कुमार के निजी बैनर ‘गीतांजली पिक्चर्स’ के तले बनी फ़िल्म ‘ख़ामोशी’ की। हेमन्त...
Uncategorized

दोस्त कहाँ कोई तुमसा…."सिस्टर्स" की सेवाओं को समर्पित एक अनूठा नगमा

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 238 हेमन्त कुमार के निजी बैनर ‘गीतांजली पिक्चर्स’ के बारे में हम आपको पहले ही बता चुके हैं जब हमने...
Uncategorized

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी अँखियाँ प्यासी है….राग केदार पर आधारित था ये भजन

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 229 भारतीय शास्त्रीय संगीत इतना पौराणिक है कि इसके विकास के साथ साथ कई देवी देवताओं के नाम भी इसके...
Uncategorized

छुपालो यूं दिल में प्यार मेरे कि जैसे मंदिर में लौ दिए की…हर सुर पवित्र हर शब्द पाक

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 222 राग यमन एक ऐसा राग है जिसकी उंगली थाम हर संगीत विद्यार्थी शास्त्रीय संगीत सीखने के मैदान में उतरता...
Uncategorized

चंदनिया नदिया बीच नहाए, वो शीतल जल में आग लगाए…लोक रंग में रंग ये गीत कलमबद्ध किया राजेंद्र कृष्ण ने

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 208 ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ की महफ़िल को आज हम रंग रहे हैं लोक संगीत के रंग से। यह एक ऐसा...
Uncategorized

चल बादलों के आगे ….कहा हेमंत दा ने आशा के सुर से सुर मिलाकर

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 192 ‘१० गायक और एक आपकी आशा’ की पहली कड़ी में कल आप ने आशा भोसले और तलत महमूद का...
Uncategorized

पॉडकास्ट कवि सम्मलेन – अगस्त 2009

Amit
इंटरनेटीय कवियों की इंटरनेटीय गोष्ठी रश्मि प्रभा खुश्बू यदि आप पुराने लोगों से बात करें तो वे बतायेंगे कि भारत में एक समय कॉफी हाउसों...
Uncategorized

सूरज रे जलते रहना… सम्पूर्ण सूर्य ग्रहण के एतिहासिक अवसर पर सूर्य देव को नमन

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 149 दोस्तों, आज सुबह सुबह आप ने बहुत दिनों के बाद सम्पूर्ण सूर्य ग्रहण का नज़ारा देखा होगा। आप में...
Uncategorized

गंगा आये कहाँ से, गंगा जाए कहाँ रे…जीवन का फलसफा दिया था कभी गुलज़ार साहब ने इस गीत में

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 146 कवि गुरु रबीन्द्रनाथ ठाकुर की कहानियों और उपन्यासों पर बनी फ़िल्मों की जब बात आती है तब ‘काबुलीवाला’ का...
Uncategorized

है अपना दिल तो आवारा, न जाने किस पे आएगा….हेमंत दा ने ऐसी मस्ती भरी है इस गीत कि क्या कहने

Sajeev
ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 142 ऐसे बहुत से गानें हैं जिनमें किसी एक ख़ास साज़ का बहुत प्रौमिनेंट इस्तेमाल हुआ है, यानी कि पूरा...