Uncategorized

स्वर कोकिला लता मंगेशकर के लिये एक अदभुत कविता-तुम स्वर हो,स्वर का स्वर हो

माया गोविंद देश की जानी मानी काव्य हस्ताक्षर हैं.हिन्दी गीत परम्परा को मंच पर स्थापित करने में मायाजी ने करिश्माई रचनाएँ सिरजीं हैं.आवाज़ पर भाई संजय पटेल के माध्यम से हमेशा नई – नई सामग्री मिलती रही है.लता दीदी के जन्मदिन के ठीक एक दिन पहले आवाज़ पर प्रस्तुत है समर्थ कवयित्री माया गोविंद की यह भावपूर्ण रचना.

तुम स्वर हो, तुम स्वर का स्वर हो
सरल-सहज हो, पर दुष्कर हो।
हो प्रभात की सरस “भैरवी’
तुम “बिहाग’ का निर्झर हो।

चरण तुम्हारे “मंद्र सप्तकी’
“मध्य सप्तकी’ उर तेरा।
मस्तक “तार-स्वरों’ में झंकृत
गौरवान्वित देश मेरा।
तुमसे जीवन, जीवन पाए
तुम्हीं सत्य-शिव-सुंदर हो।
हो प्रभात की…

“मेघ मल्हार’ केश में बॉंधे
भृकुटी ज्यों “केदार’ “सारंग’।
नयन फागुनी “काफ़ी’ डोले
अधर “बसंत-बहार’ सुसंग।
कंठ शारदा की “वीणा’ सा
सप्त स्वरों का सागर हो।
हो प्रभात की…

सोलह कला पूर्ण गांधर्वी
लगती हो “त्रिताल’ जैसी।
दोनों कर जैसे “दो ताली’
“सम’ जैसा है भाल सखी।
माथे की बिंदिया “ख़ाली’ सी
“द्रुत लय” हो, गति मंथर हो।
हो प्रभात की…

“राग’ मित्र, “रागिनियॉं’सखियॉं
“ध्रुपद-धमार’ तेरे संबंधी।
“ख़याल-तराने’ तेरे सहोदर
“तान’ तेरी बहनें बहुरंगी।
“भजन’ पिता, जननी “गीतांजलि’
बस स्वर ही तेरा वर हो।
हो प्रभात की…

ये संसार वृक्ष “श्रुतियों’ का
तुम सरगम की “लता’ सरीखी।
“कोमल’ “शुद्ध’ “तीव्र’ पुष्पों की
छंद डोर में स्वर माला सी।
तेरे गान वंदना जैसे

Related posts

बागों में बहार आई, होंठों पे पुकार आई…जब बख्शी साहब ने आवाज़ मिलाई लता के साथ इस युगल गीत में

Sajeev

बूझ मेरा क्या नाव रे….कौन है ये मचलती आवाज़ वाली गायिका….

Sajeev

बेकरार कर के हमें यूँ न जाइए, आप को हमारी कसम लौट आइए

Amit