Uncategorized

तूने ये क्या कर दिया …ओ साहिबा…

दूसरे सत्र के १८ वें गीत का विश्वव्यापी उदघाटन आज

जीत के गीत” और “मेरे सरकार” गीत गाकर अपनी आवाज़ का जादू बिखेरने वाले बिस्वजीत आज लौटे हैं एक नए गीत के साथ, और लौटे हैं कोलकत्ता के सुभोजित जिन्होंने छोटी सी उम्र में ही अपनी प्रतिभा से हर किसी को प्रभावित किया है. सजीव सारथी के लिखे इस नए गीत में प्रेम की पहली छुअन है जिसका बिस्वजीत अपने शब्दों में कुछ इस तरह बखान करते हैं –

“कुछ गाने ऐसे होते है जिनमें खो जाने को मन करता है. “साहिबा” ऐसा एक गाना है. सच बताऊँ तो गाने के समय एक बार भी मुझे लगा नहीं कि मैं गा रहा हूँ. ऐसे लगा जैसे इस कहानी में मैं ही वो लड़का हूँ जिस पर कोई लड़की जादू कर गई है, कुछ पल की मुलाक़ात के बाद और चंद लम्हों में मेरी साहिबा बन चुकी है. तड़प रहा हूँ मैं दूरी से, जो दिल में बस गई है उसके ना होने से. सजीव जी के शब्दों ने मुझे मजबूर कर दिया उस तड़प की गहराइयों को महसूस करने के लिए. सुभोजित का म्यूजिक भी लाजवाब है. आशा कर रहा हूँ ये गाना भी सभी को पसंद आएगा”

आप भी सुनें सुभोजित का स्वरबद्ध और बिस्वजीत का गाया ये नया गीत और अपनी राय देकर इस गीत के रचियेताओं तक अपनी बात पहुंचायें.

गीत को सुनने के लिए नीचे के प्लेयर पर क्लिक करें



This brand new song “o sahibaa” has a romantic feel in it, based on a situation where the protagonist falls in love with a beautiful hill station girl. Composed by our youngest composer Subhojit and rendered by Biswajit Nanda, penned by Sajeev Sarathie. So enjoy this brand new song and do let us know what you guys feel for it.

To listen please click on the player

Lyrics – गीत के बोल

खामखाँ तो नही, ये खुमारी सनम,
बेवजह ही नही बेकरारी सनम,
कुछ तो है बात जो छाई है ऐसी बेखुदी,
है होश गुम मगर,जागी हुई सी है जिंदगी,
तुने ये क्या कर दिया ….ओ साहिबा.
ये दर्द कैसा दे दिया …ओ साहिबा…
ओ साहिबा… ओ साहिबा…
ओ साहिबा…ओ साहिबा…

दिल के जज़्बात भी,अब तो बस में नही,
वक्त ओ हालात का, होश भी कुछ नही,
कब जले दिन यहाँ, कब बुझे रातें,
अपनी ख़बर हो या, यारों की बातें… याद कुछ भी नही…
कुछ है तो बात जो…..

दूर होकर भी तू, हर घड़ी पास है,
फ़िर भी दीदार की आँखों में प्यास है,
खुशबू से तेरी है सांसों में हलचल,
मेरे वजूद पे छाया जो हर पल… तेरा एहसास है….
कुछ तो है बात जो….

SONG # 18, SEASON # 02, “O SAHIBAA” OPENED ON AWAAZ ON 31/10/2008.
Music @ Hind Yugm, Where music is a passion.

Related posts

मौसम है आशिकाना, ये दिल कहीं से उनको ऐसे में ढूंढ लाना…आईये सज गयी है महफिल ओल्ड इस गोल्ड की

Sajeev

पॉडकास्ट कवि सम्मलेन – अगस्त 2009

Amit

जब रफी साहब की आवाज़ ढली शम्मी कपूर के मदमस्त अंदाज़ में…

Amit