Uncategorized

मेरी आगोश में आज है…कहकशां….

मैं देखता हूँ तुम्हारे हाथ
चटख नीली नसों से भरे
और
उंगलियों में भरी हुई उड़ान
मैं सोचता हूँ
तुम्हारी अनवरत देह की सफ़ेद धूप
और उसकी गर्म आंचश
मैं जीत्ताता हूँ तुमको
तुम्हारे व्याकरण और
नारीत्व की शर्तो के साथ
मैं हारता हूँ
एक पूरी उम्र
तुम्हारे एवज में!

हिंद युग्म के इस माह के यूनिकवि डॉ मनीष मिश्रा की इन पक्तियों में छुपे कुछ भाव लिए है हमारे दूसरे सत्र का ये २२ वां गीत जहाँ “जीत के गीत” की तिकडी ऋषि एस, बिस्वजीत नंदा और सजीव सारथी लौटे हैं लेकर एक नया गीत “तू रूबरू” लेकर. सुनिए ये ताज़ा तरीन गीत और अपने विचार देकर हमारा मार्गदर्शन/ प्रोत्साहन करें.


The composer singer and lyricist trio Rishi S, Biswajith Nanda, and Sajeev Sarathie of super successful “jeet ke geet” fame is back again with their new creation called “tu ru-ba-ru”. This time the mood is much more romantic with a bit sufiayana feel in it. so enjoy this brand new offering from the awaaz team, and leave your valuable comments.


Lyrics- गीत के बोल

तू रूबरू….
चार सू….सिर्फ़ तू….
रूबरू….

तू है मेरे रूबरू, मुझे हासिल है दोनों जहाँ,
मेरी आगोश में आज है…कहकशां….
तू रूबरू….
चार सू….सिर्फ़ तू….
रूबरू….

सजदों इबादत में,
इश्कों मोहब्बत में,
देखूं तुझे ही मैं…मेहरबां…..
तू रूबरू….
चार सू….सिर्फ़ तू….
रूबरू….

सुरमई उदासियों के सायों में,
चम्पई उम्मीदों की आमद तू,
बेरंगों बेज़ार सी मेरी आँखों में,
ख्वाबों की हसीन जन्नत तू…
तू रूबरू….
चार सू….सिर्फ़ तू….
रूबरू….

शिकवे तुझसे हैं, तुझसे चाहतें,
दर्द भी तुझ से है, तुझसे राहतें…
तू ही हर खुशी, तू ही जिंदगी,
तू ही धडकनों की है बंदगी
तू रूबरू….
चार सू….सिर्फ़ तू….
रूबरू….
तू है मेरे रूबरू, मुझे हासिल है दोनों जहाँ,
मेरी आगोश में आज है…कहकशां….

दूसरे सत्र के २२ वें गीत का विश्व व्यापी उदघाटन आज
SONG # 22, SEASON # 02, “TU RU-BA-RU”, OPENED ON AWAAZ ON 28/11/2008.
Music @ Hind Yugm, Where music is a passion.

Related posts

सुनो कहानी: एक अशुद्ध बेवकूफ – हरिशंकर परसाई

Amit

मेरी आवाज़ सुनो, प्यार का राग सुनो…..स्वर्गीय मदन साहब के गीत बोले रफी के स्वरों में ढल कर

Sajeev

"मौसम है बड़ा मस्ताना" – एक और दुर्लभ गीत, एक और दुर्लभ आवाज़

Sajeev