Uncategorized

सुनो कहानी: प्रेमचंद की 'सौत'

उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद की लघु कहानी ‘सौत’

‘सुनो कहानी’ इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में प्रेमचंद की रचना ‘बंद दरवाजा‘ का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं मानव मूल्यों को केन्द्र में रखती हुई प्रेमचंद की कहानी “सौत”, जिसको स्वर दिया है लन्दन निवासी कवयित्री श्रीमती शन्नो अग्रवाल ने। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। कहानी का कुल प्रसारण समय है: 19 मिनट और 37 सेकंड।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं हमसे संपर्क करें। अधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ देखें।


मैं एक निर्धन अध्यापक हूँ…मेरे जीवन मैं ऐसा क्या ख़ास है जो मैं किसी से कहूं
~ मुंशी प्रेमचंद (१८८०-१९३६)


हर शनिवार को आवाज़ पर सुनिए प्रेमचंद की एक नयी कहानी


रजिया को साड़ी की उतनी चाह न थी जितनी रामू और दसिया के आनन्द में
विघ्न डालने की। बोली, “रूपये नहीं थे, तो कल अपनी चहेती के लिए चुंदरी
क्यों लाये? चुंदरी के बदले उसी दाम में दो साड़ियां लाते, तो एक मेरे
काम न आ जाती?” (प्रेमचंद की “सौत” से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.

#Fifteenth Story, Saut: Munsi Premchand/Hindi Audio Book/2008/14. Voice: Shanno Agrawal

Related posts

युग्मवाणी ( Yugmvani )

Amit

सागर मिले कौन से जल में….जीवन की तमाम सच्चाइयां समेटे है ये छोटा सा गीत

Sajeev

भरम तेरी वफाओं का मिटा देते तो क्या होता…तलत की आवाज़ पर साहिर के बोल

Sajeev