Uncategorized

मेरी जान तुम पे सदके…

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 18

‘ओल्ड इस गोल्ड’ की एक और शाम लेकर हम हाज़िर हैं. आज की यह शाम थोडी शायराना है, जिसमें थोड़ी सी रूमानियत है, थोड़ी बेचैनी है, थोड़ी सी प्यास भी है, और थोड़ी सी चाहत भी. 60 के दशक के आखिर में संगीतकार ओ पी नय्यर के स्वरबद्ध गीत कम होने लगे थे. लेकिन जब भी किसी फिल्म को उन्होने अपना पारस हाथ लगाया तो वो जैसे सोना बन गया. 1966 में बनी फिल्म “सावन की घटा” आज अगर याद की जाती है तो सिर्फ़ उसके महकते हुए गीत संगीत के लिए. ओ पी नय्यर और एस एच बिहारी इस फिल्म के संगीतकार और गीतकार थे. इस फिल्म के लगभग सभी गीत ‘हिट’ हुए थे. आशा भोंसले और मोहम्मद रफ़ी ने ज़्यादातर गीत भी गाए इस फिल्म में. लेकिन एक गीत ऐसा था जिसे नय्यर साहब ने महेंद्र कपूर से गवाया. इसी गीत का एक दूसरा ‘वर्जन’ भी था जिसे आशाजी ने गाया था. “मेरी जान तुमपे सदके अहसान इतना कर दो, मेरी ज़िंदगी में अपनी चाहत का रंग भर दो”. इसमें कोई शक़ नहीं की महेंद्र कपूर ने इस गीत में अपनी गायकी का वो रंग भरा है जो आज तक उतरने का नाम नहीं लेती.

हालाँकि ओ पी नय्यर के चहेते गायक रहे हैं मोहम्मद रफ़ी, लेकिन महेंद्र कपूर को भी उन्होने कई बार गवाया है. महेंद्र और नय्यर साहब के सुरीले संगम से निकले कुछ गीतों के नाम गिनाएँ आपको? “लाखों है यहाँ दिलवाले और प्यार नहीं मिलता”, “आँखों में क़यामत के काजल, होंठों पे ग़ज़ब की लाली है”, यह दोनो फिल्म किस्मत के गाने हैं, फिर “यह रात फिर ना आएगी” का वो गाना “मेरा प्यार वो है कि मरकर भी तुमको जुदा अपनी बाहों से होने ना देगा”, बहारें फिर भी आएँगी फिल्म में “बदल जाए अगर माली चमन होता नहीं खाली”, और फिर “दिल और मोहब्बत” फिल्म में “कहाँ से लाई ओ जानेमन” और आशा भोंसले के साथ “हाथ आया है जब से तेरा हाथ में”, इन गीतों को हम ‘ओल्ड इस गोल्ड’ में आनेवाले समय में शामिल करने की कोशिश करेंगे. लेकिन आज सुनिए फिल्म “सावन की घटा” से यह गाना.

और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाईये कि हमारा अगला “ओल्ड इस गोल्ड” गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं –

१. आवाज़ पर नौशाद की तीन बहतरीन फिल्मों के जिक्र में इस फिल्म का भी नाम शामिल था.
२. बोल है शकील बदायुनीं के और आवाज़ है लता की.
३. मुखड़े से पहले एक शेर में जिसमें शब्द आता है – “ढिंढोरा”

कुछ याद आया…?

पिछली पहेली का परिणाम –
उज्जवल कुमार जी बधाई….आपने एकदम सही जवाब दिया

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवायेंगे, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Related posts

न बोले तुम न मैंने कुछ कहा….फिर भी श्रोताओं और ओल्ड इस गोल्ड में बन गया एक अटूट रिश्ता

Sajeev

आफ़रीन आफ़रीन…कौन न कह उठे नुसरत साहब की आवाज़ और जावेद साहब को बोलों को सुन…

Amit

पी से पाठशाला और पी से प्रिंस….दो युवा संगीतकारों ने धाक जमाई इन बड़ी फिल्मों से

Sajeev