Uncategorized

लोकगीतों में वतन वाले सुनें नाम मेरा

पिछले हफ़्ते हमने आपको अब्बास रज़ा अल्वी द्वारा संगीतबद्ध गोपालदास नीरज का एक गीत सुनवाया था। आज एक बार फिर से हम इन्हीं की एक संगीतबद्ध प्रस्तुति लेकर आये हैं। इस गीत को लिखा है स्वर्गीय सागर खयामी ने। गाया है सिडनी की गायिक शानाज़ हैदर ने। अब्बास के दोनों गीत इनके ‘दूरियाँ’ एल्बम के हिस्सा हैं। अब्बास ने यह एल्बम भारत के गरीब बच्चों की मदद के लिए कम्पोज किया था।

Related posts

अरे कैसे मिलेगा मुझ जैसा हीरो….एक मस्ती भरा गीत गोपाल राव और महालक्ष्मी अय्यर का गाया

Sajeev

बिल्लू को कहना नही कोई हज्ज़ाम…

Amit

इस मोड़ से जाते हैं, कुछ सुस्त कदम रस्ते,: पंचम दा पर विशेष

Amit