Uncategorized

लोकगीतों में वतन वाले सुनें नाम मेरा

पिछले हफ़्ते हमने आपको अब्बास रज़ा अल्वी द्वारा संगीतबद्ध गोपालदास नीरज का एक गीत सुनवाया था। आज एक बार फिर से हम इन्हीं की एक संगीतबद्ध प्रस्तुति लेकर आये हैं। इस गीत को लिखा है स्वर्गीय सागर खयामी ने। गाया है सिडनी की गायिक शानाज़ हैदर ने। अब्बास के दोनों गीत इनके ‘दूरियाँ’ एल्बम के हिस्सा हैं। अब्बास ने यह एल्बम भारत के गरीब बच्चों की मदद के लिए कम्पोज किया था।

Related posts

रोको आत्महत्याएँ….जगाओ आत्मविश्वास… अभिजीत सावंत और पल्लव पाण्डया की संगीतमयी पहल

Amit

प्रलय के बाद भी बचा रहेगा लता मंगेशकर का पावन स्वर !

Amit

जाणा जोगी दे नाल मैं… कैलाश खेर के गैर फ़िल्मी संगीत का सफरनामा कैलाश "यात्रा" में

Sajeev