Uncategorized

साल 2010 की पहली गीतों भरी कहानी

गुनगुनाते लम्हे- 4

आज जनवरी महीना का पहला मंगलवार है। पहला मंगलवार मतलब गुनगुनाते लम्हे का दिन। वैसे देखा जाये तो आज का दिन साल 2010 का भी पहला मंगलवार है। तो चलिए आज के दिन को गीतों भरी कहानी से रुमानी बनाते हैं। अपराजिता की दिकलश आवाज़ में गुनते हैं रश्मि प्रभा की कहानी।

‘गुनगुनाते लम्हे’ टीम

आवाज़/एंकरिंग कहानी तकनीक
Aprajita Kalyani Rashmi Prabha Khushboo
अपराजिता कल्याणी रश्मि प्रभा खुश्बू

आप भी चाहें तो भेज सकते हैं कहानी लिखकर गीतों के साथ, जिसे दूंगी मैं अपनी आवाज़! जिस कहानी पर मिलेगी शाबाशी (टिप्पणी) सबसे ज्यादा उनको मिलेगा पुरस्कार हर माह के अंत में 500 / नगद राशि।

हाँ यदि आप चाहें खुद अपनी आवाज़ में कहानी सुनाना तो आपका स्वागत है….

1) कहानी मौलिक हो।
2) कहानी के साथ अपना फोटो भी ईमेल करें।
3) कहानी के शब्द और गीत जोड़कर समय 35-40 मिनट से अधिक न हो, गीतों की संख्या 7 से अधिक न हो।।
4) आप गीतों की सूची और साथ में उनका mp3 भी भेजें।
5) ऊपर्युक्त सामग्री podcast.hindyugm@gmail.com पर ईमेल करें।

Related posts

ये मूह और मसूर की दाल….मुहावरों ने छेड़ी दिल की बात और बना एक और फिमेल डूईट

Sajeev

इस बार नर हो न निराश करो मन को संगीतबद्ध हुआ

Amit

पिया पिया न लागे मोरा जिया…आजा चोरी चोरी….

Sajeev