Music एक गीत सौ अफ़साने

देखने में भोला है | एक गीत सौ अफसाने

https://open.spotify.com/episode/3GIplEqTiwhducYZWZPtQM?si=cyUbsVKzRQavzOKsLbkSJw&utm_source=copy-link

वर्ष 1960 की चर्चित फ़िल्म ’बम्बई का बाबू’ का गीत “देखने में भोला है दिल का सलोना”। आशा भोसले और साथियों की आवाज़ें, मजरूह सुल्तानपुरी के बोल, और सचिन देव बर्मन का संगीत। क्यों विवादित है इस गीत की धुन? क्या इतिहास है इस गीत के धुन की? क्यों इस धुन से जुड़ा मामला अदालत तक पहुँचा था? क्यों इस गीत में नायिका अपने नायक को “चिन्नन्ना”, यानी छोटा भाई कहती हैं? ये सब आज के इस अंक में।

Related posts

“जब से तूने बंसी बजायी रे….”

cgswar

शंकर एहसान लॉय की तिकड़ी के सुरीले गीत

Sajeev Sarathie

एक गीत सौ अफ़साने || एपिसोड 02 || छोटी सी कहानी से

Sajeev

Leave a Comment