एक गीत सौ अफ़साने

तू मुस्कुरा जहां भी है तू मुस्कुरा

https://open.spotify.com/episode/30OheraHgh5G21HupmKAOC?si=IQ0Iq-yHQy28YEKcM5LbJA&utm_source=copy-link

वर्ष 2008 की चर्चित फ़िल्म ’युवराज’ का गीत “तू मुस्कुरा जहाँ भी है तू मुस्कुरा”। अलका यागनिक और जावेद अली की आवाज़ें, गुलज़ार के बोल, और ए. आर. रहमान का संगीत। कहाँ से आयी इस गीत की धुन? क्यों फ़िल्म पूरी होने के बाद इस गीत को बनाने का फ़ैसला लिया गया? कैसे बना फिर यह गीत? जावेद अली की आवाज़ इस गीत में ज़रा अलग हट के क्यों सुनाई देती है? क्या हुआ था ऑल इण्डिया रेडियो की उर्दू सर्विस की स्टुडियो में इस गीत को बजाते हुए? ये सब आज के इस अंक में।

Related posts

एक गीत सौ अफ़साने || एपिसोड 04 || नीले गगन के तले

Sajeev

Fir Mujhe Deeda-E-Tar Yaad Aaya | Ek Geet Sau Afsane

Sajeev Sarathie

।। नीले गगन के तले धरती का प्यार पले।।

cgswar

Leave a Comment