Travel विविध

शहर ए कोलकत्ता और दुर्गा पूजा की धूम

ऐतिहासिक विरासत और जीवंत संस्कृति के प्रतीक अनेक त्योहार, उत्सव और पर्व देश-विदेश में हमारे सरस और सजीले सांस्कृतिक वैभव का प्रदर्शन करने के साथ ही हमें गौरवान्वित होने का अवसर देते हैं.जीवन को नई ताजगी देते उत्सव और पर्व जीवन में जीने का उत्साह और उल्लास का रंग भरते हैं जिस से जीने का हौसला दोगुना हो जाता है. रोजमर्रा की परेशानियों को भुला कर हमें सजनेसंवरने और नए स्वाद चखने का भी अवसर देते हैं ये उत्सव। आइए जानते है और समझते हैं ऐसी ही एक जग प्रसिद्ध उत्सव के बारे में जो बंगाल की बेमिसाल पहचान है।Speakers: Poonam Pathak, Deepika Bhatia, Usha CHHABRA, Susmita Banerjee, Aditya Dubey.

Part 01

https://open.spotify.com/episode/5AB2R9Ek5Yh8m8L3tYWJ3U?si=g8Wa3jWqSMiR3322jbAJ_g&utm_source=copy-link

पूरे पश्चिम बंगाल के लोग पूरे साल “माँ” के आने का बेसब्री से इंतज़ार करते हैं. नवरात्रि आने के काफी पहले से तैयारियां शुरू कर देते हैं, पूरे नवरात्री वो पूरे जोश के साथ दुर्गा माँ की पूजा करते हैं, धार्मिक-अनुष्ठान करते हैं, एक-दूसरे को उपहार देते हैं, नए कपडे पहनते हैं, अच्छे-अच्छे व्यंजन का भोग लगाते हैं लेकिन विजयादशमी के दिन “माँ” के वापस जाने से सबकी आँखे नम हो जाती हैं. विसर्जन के समय सबकी आँखों में आंसू आ जाते हैं. “माँ” के प्रति प्रेम, “माँ” के प्रति ममता “माँ” को जाने नहीं देना चाहते, “माँ” से बिछड़ना नहीं चाहता कोई, माँ को अपनी आँखों से दूर कोई नहीं देखना चाहता, क्योंकि एक माँ ही होती है तो अपने “लाल” को निःस्वार्थ भाव से पालती है, माँ ही होती है जो जिसको बदले में कुछ नहीं चाहिए होता है. सबको पता है की अब पूरे एक साल का इंतज़ार हो जायेगा दोबारा माँ को आने में. ये इंतज़ार बहुत लम्बा होता है, माँ से एक मिनट की दूरी भी सदियों से भी बड़ी होती है ये तो 365 दिन है. हम माँ से प्रार्थना करते हैं की अगले बरस “माँ” जल्दी आओ इसी भावना के साथ “माँ” को सद्भाव से ओत-प्रोत विदाई करते हैं.

Speakers: Poonam Pathak, Deepika Bhatia, Pawan Gaur, Seema Upadhyaya.

Part 02

https://open.spotify.com/episode/5L9FQRiVeUpyGNflmvcSUC?si=TpVRL62NS9mqpJwCD9XstQ&utm_source=copy-link

हम सब के पास होती हैं ढेरों बातें, ढेरों किस्से और कहानियां, बांटे यही कहानियां हमारे Mentza app पर, जहां 20 मिनट की लाइव बातचीत के माध्यम से आप रच सकते हैं अपना खुद का पॉडकास्ट जिसे दुनिया सुनेगी Spotify और दूसरे पॉडकास्ट चैनलों पर, तो आज ही Mentza app डाउनलोड करें और हमारी हिंदी रेडियो प्लेबैक इंडिया कम्यूनिटी ज्वाइन करें, बस फिर क्या ?
दिल खोल के बोल, हिंदी में बोल।
Download Mentza and Join us on
Share your stories, Pick people’s brains!
Link: https://on.mentza.com/communities/87

Related posts

किसी खिलाड़ी को कब तक आजमाया जा सकता है ?

Sajeev Sarathie

मिड कैप म्यूचुअल फंड्स कितने तरह के होते हैं ?

Sajeev Sarathie

जैविक कृषि : क्या है भूमिका NCOF और RCOF की

Sajeev Sarathie

Leave a Comment