Music एक गीत सौ अफ़साने

एक ही ख्वाब कई बार देखा मैने

https://open.spotify.com/episode/0EpWuLM2kC3qWgAJwoYVri?si=6nYpPtjqQjuRUrTeI4jYyw&utm_source=copy-link

वर्ष 1977 की चर्चित फ़िल्म ’किनारा’ का गीत “एक ही ख़्वाब कई बार देखा है मैंने”। भूपेन्द्र और हेमा मालिनी की आवाज़ें, गुलज़ार के बोल, और राहुल देव बर्मन का संगीत। इस गीत की रेकॉर्डिंग पर हेमा मालिनी के साथ गाते हुए भूपेन्द्र को कैसी दिक्कत हो रही थी? गीत बनने के बाद जब यह थोड़ा डल लग रहा था तो भूपेन्द्र ने ऐसा कौन सा जादू चलाया कि गीत खिल उठा? इस गीत के निर्माण के समय गीत के बोलों पर गुलज़ार और पंचम के बीच किस तरह की बहसें हुआ करती थीं? इस गीत के बाद पंचम ने गुलज़ार का नाम “चाबियाँ” क्यों रख दी थीं? इस गीत के साथ धर्मेन्द्र किस नाटकीय अंदाज़ से जुड़े? ये सब आज के इस अंक में।

Related posts

यादें SPB की सुशील के साथ 

Sajeev Sarathie

केतकी गुलाब जूही ।। Ek Geet Sau Afsane

Sajeev Sarathie

“दिल आने के ढंग निराले हैं..”

cgswar

Leave a Comment