एक गीत सौ अफ़साने

सात अजूबे इस दुनिया में आठवीं अपनी जोड़ी

वर्ष 1977 की चर्चित फ़िल्म ’धरम वीर’ का गीत “सात अजूबे इस दुनिया में आठवीं अपनी जोड़ी”। मोहम्मद रफ़ी और मुकेश की आवाज़ें, आनन्द बक्शी के बोल, और लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल का संगीत। रफ़ी साहब और मुकेश जी का साथ में गाया पहला और आख़िरी डुएट कौन से थे? इस गीत के शुरुआती मुखड़े में गायकों की आवाज़ों और फ़िल्मांकन में कैसी गड़बड़ी हुई? गीत के एक अन्तरे को लेकर महिला समितियों ने विरोध प्रदर्शन क्यों किया? और इस विरोध के चलते अन्तरे के शब्दों में किस तरह के बदलाव किए गए? ये सब, आज के अंक में।

हम सब के पास होती हैं ढेरों बातें, ढेरों किस्से और कहानियां, बांटे यही कहानियां हमारे Mentza app पर, जहां 20 मिनट की लाइव बातचीत के माध्यम से आप रच सकते हैं अपना खुद का पॉडकास्ट जिसे दुनिया सुनेगी Spotify और दूसरे पॉडकास्ट चैनलों पर, तो आज ही Mentza app डाउनलोड करें और हमारी हिंदी रेडियो प्लेबैक इंडिया कम्यूनिटी ज्वाइन करें, बस फिर क्या ?
दिल खोल के बोल, हिंदी में बोल।
Download Mentza and Join us on
Share your stories, Pick people’s brains!
Link: https://on.mentza.com/communities/87

https://open.spotify.com/episode/1nEAdkwFxuvkBSCIUcClFD?si=ntxUc0tdRs6CAUfeq8v0aA&utm_source=copy-link

Related posts

एक गीत सौ अफ़साने || एपिसोड 02 || छोटी सी कहानी से

Sajeev

Nadaan Parindey | Ek Geet Sau Afsane

Sajeev Sarathie

मन क्यों बहका ।। Ek Geet Sau Afsane

Sajeev Sarathie

Leave a Comment