Hawa Mahal 2.0

हरिशंकर परसाई कृत व्यंग चार बेटे

सुनिए हरिशंकर परसाई का व्यंग्य चार बेटे, अनुराग शर्मा

“पचास साल तो कोई फरिश्ते के साथ भी नहीं रह सकता, और यहां तो इस जोड़े ने बिना किसी झगड़े ने निभा दिया था” – इसी प्रस्तुति से ।

हम सब के पास होती हैं ढेरों बातें, ढेरों किस्से और कहानियां, बांटे यही कहानियां हमारे Mentza app पर, जहां 20 मिनट की लाइव बातचीत के माध्यम से आप रच सकते हैं अपना खुद का पॉडकास्ट जिसे दुनिया सुनेगी Spotify और दूसरे पॉडकास्ट चैनलों पर, तो आज ही Mentza app डाउनलोड करें और हमारी हिंदी रेडियो प्लेबैक इंडिया कम्यूनिटी ज्वाइन करें, बस फिर क्या ?
दिल खोल के बोल, हिंदी में बोल।
Download Mentza and Join us on
Share your stories, Pick people’s brains!
Link: https://on.mentza.com/communities/87

https://open.spotify.com/episode/5NvCrXbIVdSw1BytUqLWFH?si=w9tIfUaORoePDtw9E-nXQg&utm_source=copy-link

Related posts

रेडियो नाटक मजबूरी की मजदूरी

Sajeev Sarathie

Bhagat Ki Gat by Harishankar Parsai | Hawa Mahal 2.0

Sajeev Sarathie

Aatm Sangeet | Hawa Mahal 2.0

Sajeev Sarathie

Leave a Comment