काव्य तरंग

Adhikaar Jagane Aaya Hoon | Kavita

चुनाव |  विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व |  जो लोग मतदान के दिन भी घर से निकल अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं करते, यह कविता उन्हें मतदान के लिए प्रेरित करने का प्रयास है | कविता व स्वर है शैलेश चंद्रप्रवीर का और प्रस्तुतकर्ता है रेडियो प्लैबैक इंडिया |

Click any of the following link to listen to the whole episode

Spotify || Gaana || Jio Saavn || Amazon Music || iTunes || Google Podcast

Related posts

Sparsh Ki Garmi || Poem

Sajeev Sarathie

हमसफर याद आया ।। गज़ल

Sajeev Sarathie

काव्य तरंग // रीतेश खरे // ओपन माइक // जीवन: नर्म, सख़्त, बहुत ख़ास

Amit

Leave a Comment