काव्य तरंग

Shaam E Shayari | Evening 5

शब्दों के सुनहरी संसार की पाँचवीं महफ़िल का अंतिम भाग (भाग 4) जिसे अपने फन के अज़ीम और चर्चित कवियों और शायरों के साथ मिलकर सजाया है खास आपके लिए मनुज मेहता ने | “काव्य तरंग” कार्यक्रम के अंतर्गत रेडियो प्लैबैक इंडिया की प्रस्तुति |

The six hours long recording of the Shaam E Shayari event is divided into 4 parts, you can found them on all leading Podcasting platforms like Spotify, Gaana, Amazon Music, iTunes, Jio Saavn, and Google Podcast, following are the Spotify links of each episode

Part 01

Part 02

Part 03

Part 04

Enjoy

Related posts

काव्य तरंग // अनु चक्रवर्ती // ओपन माइक – कुछ कहती है नदी

Amit

रूठे रूठे से हबीब ।। गज़ल

Sajeev Sarathie

काव्य तरंग // रीतेश खरे // ओपन माइक // जीवन: नर्म, सख़्त, बहुत ख़ास

Amit

Leave a Comment