एक गीत सौ अफ़साने

तेरा हिज्र मेरा नसीब है || Ek Geet Sau Afsane

“तेरा हिज्र मेरा नसीब है, तेरा ग़म ही मेरी हयात है, मुझे तेरी दूरी का ग़म हो क्यों, तू कहीं भी हो मेरे साथ है…” – फ़िल्म ’रज़िआ सुल्तान’ की मशहूर ग़ज़ल। कब्बन मिर्ज़ा की अनोखी आवाज़, ख़य्याम का ठहराव भरा सुरीला संगीत, और निदा फ़ाज़ली के पुर-असर बोल। कैसे बनी यह ग़ज़ल? क्यों देश भर से पचासों गायक आये इस ग़ज़ल का ऑडिशन टेस्ट देने? फिर कैसे चुनी गई कब्बन मिर्ज़ा की आवाज़? क्यों रिकॉर्डिंग् के “दिन रिकॉर्डिंग् की सेटिंग् बदली गई? कैसी रही निदा फ़ाज़ली और कमाल अमरोही की मीटिंग् इस ग़ज़ल के सन्दर्भ में? जानिए ये सब, आज के इस अंक में।

#RaziaSultana #Khayyam #kabbanmirza #HemaMalini #Dharmendra #kaifiazmi #nidafazli #AllIndiaRadio

Click any of the following link to listen to the whole episode

Spotify || Gaana || Jio Saavn || Amazon Music || iTunes

Related posts

एक गीत सौ अफ़साने || एपिसोड 05 || मेरो गाँव काठा पारे

Sajeev

Mere to Giridhar Gopal | Ek Geet Sau Afsane

Sajeev Sarathie

।। छोटी सी कहानी से, बारिशों के पानी से ।।

radio playback

Leave a Comment