काव्य तरंग

नहीं रुकते थे जो आंसू ।। गज़ल

Happy Sunday…
लिजिए रविवार सुबह की कॉफी के साथ सुनिए, Reetessh Khare की ये गज़ल उन्ही के स्वर में…

GaanaPodcast, #amazonmusic #jiosaavnpodcasts #googlepodcasts #itunespodcast और #applepodcast पर भी उपलब्ध

Related posts

Shaam E Shayari with Manuj Mehta | Full Recording

Sajeev Sarathie

Toh Main Tumhara ।। Ghazal

Sajeev Sarathie

शाम ए शायरी ।। मनुज मेहता

Sajeev Sarathie

Leave a Comment