काव्य तरंग

काव्य तरंग // उषा छाबड़ा // ओपन माइक – नदिया चले, चले रे धारा….

  काव्य तरंग 

रेडियो प्लेबैक इंडिया की प्रस्तुति ‘ नदिया चले, चले रे धारा…. ‘
काव्य तरंग के दूसरे सीजन की थीम है ‘नदी’। इस महीने में आप अलग अलग आवाज़ों में नदी पर आधारित कविताओं का आनंद  उठा सकेंगे।

नदी पहाड़ों से चलती हुई, अपनी राह स्वयं बनाती बढ़ती जाती है आगे… और आगे… आइए उसके सफ़र के बारे में उसी के यात्रा सुना रही हैं उषा छाबड़ा जी। 

आवाज़, कविता तथा आलेख – उषा छाबड़ा 
तकनीकी सहायता  – अमित तिवारी 
आर्ट वर्क – मनुज मेहता, अमित तिवारी
सुनिए YouTube पर
आप हमारे इस पॉडकास्ट को इन पॉडकास्ट साईटस पर भी सुन सकते हैं 

हम से जुड़ सकते हैं –
Hope you like this initiative, give us your feedback on radioplaybackdotin@gmail.com

Related posts

काव्य तरंग || मुकुल तिवारी || ओपन माइक – नदी की आवाज़ सुनो

Amit

काव्य तरंग // पूजा अनिल, निखिल आनंद गिरि // ओपन माइक – पिता दिवस विशेष एपिसोड || Kaavya Tarang // Pooja Anil, Nikhil Anand Giri // Open Mic – Father’s Day Special Episode

Amit

Adhikaar Jagane Aaya Hoon | Kavita

Sajeev Sarathie

Leave a Comment