राग - भारतीय शास्त्रीय संगीत

इंडियन राग सीरीज || एपिसोड 03 || चैत्र मास में चैती गीतों का लालित्य

  इंडियन राग सीरीज की तीसरी कड़ी में सुनिए चैती गीतों से जुड़ी जानकारियाँ 

राग, रेडियो प्लेबैक इंडिया की एक कोशिश है भारतीय शास्त्रीय संगीत की बारीकियों को सरल भाषा में समझने समझाने की, प्रोग्राम हेड संज्ञा टंडन द्वारा संचालित इस कार्यक्रम हर सप्ताह बात होगी सुर, ताल, स्वर, लय और और वाध्य की। अगर आप भी शास्त्रीय संगीत में रुचि रखते हैं या फिर किसी न किसी रूप में शास्त्रीय संगीत परंपरा से जुड़े हुए हों तो संपर्क करें। 
आलेख: श्री कृष्णमोहन मिश्र
वाचन: संज्ञा टंडन

आज हम आपसे संगीत की एक ऐसी शैली पर चर्चा करेंगे जो मूलतः ऋतु प्रधान लोक संगीत की शैली है, किन्तु अपनी सांगीतिक गुणबत्ता के कारण इस शैली को उपशास्त्रीय मंचों पर भी अपार लोकप्रियता प्राप्त है। भारतीय संगीत की कई ऐसी लोक-शैलियाँ हैं, जिनका प्रयोग उपशास्त्रीय संगीत के रूप में भी किया जाता है। होली पर्व के बाद, आरम्भ होने वाले चैत्र मास से ग्रीष्म ऋतु का आगमन हो जाता है। इस परिवेश में चैती गीतों का गायन आरम्भ हो जाता है। गाँव की चौपालों से लेकर मेलों में, मन्दिरों में चैती के स्वर गूँजने लगते हैं। आज के अंक से हम आपसे चैती गीतों के विभिन्न प्रयोगों पर चर्चा आरम्भ करेंगे। उत्तर भारत में इस गीत के प्रकारों को चैती, चैता और घाटो के नाम से जाना जाता है। चैती गीतों की प्रकृति-प्रेरित धुनें, इनका श्रृंगार रस से ओतप्रोत साहित्य और चाँचर ताल के स्पन्दन में निबद्ध होने के कारण यह लोक गायकों के साथ-साथ उपशास्त्रीय गायक-वादकों के बीच समान रूप से लोकप्रिय है।


आप हमारे इस पॉडकास्ट को इन पॉडकास्ट साईटस पर भी सुन सकते हैं 
हम से जुड़ सकते हैं –
To Join the indian raaga team, please write to sangya.tandon@gmail.com 
Hope you like this initiative, give us your feedback on radioplaybackdotin@gmail.com

Related posts

स्वरगोष्ठी – 507: “सीमायें बुलायें तुझे, चल राही …” : राग – देश/ देस :: SWARGOSHTHI – 507 : RAG – DES

PLAYBACK

इंडियन राग सीरीज || एपिसोड 02 || रंग-गुलाल के उड़ते बादलों के बीच धमार का धमाल

Sajeev

स्वरगोष्ठी – 510: “बार-बार हाँ, बोलो यार हाँ …” : राग जोग :: SWARGOSHTHI – 510 : RAG JOG

PLAYBACK

Leave a Comment